“आतंकी हमले के षडयंत्रकारी हैं आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत”

समझौता एक्सप्रेस बम धमाकों के आरोपी स्वामी असीमानंद ने एक सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी आतंकी हमले की साजिश में शामिल थे.

स्वामी असीमानंद

स्वामी असीमानंद

असीमानंद ने “कारवां” पत्रिका के लिए गीता रघुनाथ को दिये साक्षात्कार में यह सनसनीखेज खुलासा किया है. असीमानंद ने इस इंटर्व्यू में बम धमाकों की साजिश रचने के सिलसिले में कई खुलासा करते हुए कहा है कि जब धमाके की साजिश रची जा रही थी तो मोहन भागवत को इसके बारे में पूरी जानकारी थी. उन्होंने कहा कि भागवत को प्रग्या ठाकुर और मोहन जोशी की गतिविधियों की भी पूरी जानकारी है.

मालूम हो कि प्रग्या ठाकुर भी बम धमाकों के सिलसिले में जेल की हवा खा चुकी हैं.

असीमानंद ने साक्षात्कार में संघ की साजिश का खुल कर उल्लेख करते हुए कहा है कि 2005 में सूरत में आरएसएस कैंप के बाद एक मीटिंग बुलायी गयी जिसमें मोहन भागवत और इंद्रेश कुमार समेत अनेक लोगों ने भाग लिया. संघ के सात सदस्यों ने डांग का दौरा किया जहां एक मंदिर में असीमानंद रहते थे. वहां मोहन भागवत ने असीमा नंद मुलाकात की. उस दौरान इंद्रेश के अलावा सुनील जोशी भी थे.

जोशी ने तब भागवत को हिंदुस्तान में मुसलमानों को बम धमाकों से नुकसान पहुंचाने के बारे में आगाह किया. असीमानंद के मुताबिक भागवत ने इसकी मंजूरी दे दी और भागवत ने असीमानंद को हिदायत दी कि वह सुनील जोशी के साथ मिल कर मामले को अंजाम दें.

भागवत ने असीमानंद को आश्वस्त करते हुए कहा- “हम तुम्हारे इसमे शामिल नहीं होंगे लेकिन अगर तुम यह काम अंजाम देते हो तो मौका पर हमें अपने साथ समझना”.

अब तक आरएसएस के लोगों पर आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप तो लगते रहे हैं लेकिन यह पहला अवसर है जब राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रमुख पर किसी ने इतना गंभीर आरोप लगाया है. खबरों में कहा गया है कि अगर असीमानंद ने यह बयान अदालत में दे दिया तो न सिर्फ आरएसएस बल्कि उसके सर संघ चालक मोहन भागवत के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*