इनोवेटिव आइडिया के नये प्रयोग में जुटा है एलिट

पटना का एलिट इंस्टिच्युट अपनी स्थापना के 14 वर्षों के इतिहास को संस्थानिक स्वरूप देने में जुटा है. इसके तहत जीवन के अनेक क्षेत्रों में योगदान कर रहे पूर्व एलिटियन्स का एक मंच बनाया जा रहा है. मेडिकल और इंजिनियरिंग की कोचिंग कराने वाले पटना के विख्यात कोचिंग संस्थान एलिट इंस्टिच्युट के निदेशक अमरदीप झा गौतम पिछले कुछ दिनों से अपने इस इनोवेटिव आइडिया पर काम कर रहे हैं.

Amardeep Jha Gautam

Amardeep Jha Gautam

उनका कहना है कि विगत चौदह वर्षों में हजारों-हजार छात्र एलिट का हिस्सा बनें. यहां शिक्षा प्राप्त की और आज जीवन के अनेक क्षेत्रों में अपनी सक्रिय योगदान देते हुए राष्ट्र सेवा में लगे हैं. ऐसे में हम उन तमाम पूर्व और मौजूदा एलिटियन का एक मंच बना रहे हैं ताकि वह इस से जुड़ सकें और अपने योगदान, जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में अपनी भूमिका और दायित्वों को आपस में शेयर कर सकें.

मंच की कार्यप्रणाली

गौतम बताते हैं कि यह मंच न सिर्फ पूर्व और मौजूदा एलिटियन्स के लिए एक नेटवर्क का काम करेगा बल्कि इस नेटवर्क के द्वारा सारे एलिटियन्स एक दूसरे के साथ पारस्परिक सहयोग करते  अपने सामाजिक दायित्व को और मजबूत कर सकेंगे.

मंच की कार्यप्रणाली के बारे में अमरदीप झा गौतम का कहना है कि एलिट इंस्टिच्युट के पूर्ववर्ति छात्रों से सम्पर्क सूत्र कायम करना है इसके अंतर्गत हम हरेक एलिटियन को एक आईडी आवंटित करेंगे जिसके सहारे वह अपने योगदान को डिजिटल तकनीक से जोड़ सकेंगे.

मंच की भूमिका

चूंकि विगत चौदह वर्षों में हजारों छात्र एलिट से शिक्षा ग्रहण करके इंजिनियरिंग और मेडिकल के क्षेत्र में सफलता के परचम लहरा रहे हैं, लेकिन अभी तक देश भर में निजी स्तर पर ऐसी कोई पहल नहीं हुई है जिसके तहत ऐसी प्रतिभाओं को आपस में जोड़ा जा सके. ऐसे में यह एक अभिनव प्रयोग होगा. अमरदीप झा गौतम कहते हैं कि हमें यह स्वीकार करने में कोई झिझक नहीं कि जहां हमारे हजारों छात्र इंजिनियरिंग और मेडिकल के क्षेत्र में काम कर रहे हैं, वहीं ऐसे एलिटियन्स की भी संख्या काफी है जिन्होंने बैंकिंग, प्रशासन, विज्ञान, शिक्षा और राजनीति  व समाज सेवा आदि क्षेत्रों में सक्रिय भूमिका को चुना है. इस प्रकार यह मंच विभिन्न क्षेत्रों का एक समागम जैसा होगा. एलिट ने इस मंच के निर्माण के अलावा इसके सुचारू क्रियान्यवयन के लिए एक वेबसाइट बनाने की योजना तय की है. इसके तमाम मेम्बर्स अपनी आईडी से अपनी नवीनतम गतिविधियों को वेबसाइट पर अपलोड भी कर सकेंगे. इस वेबसाइट के जरिये उन्हें ऑटोमेटिक रिस्पांस के तहत हर नयी जानकारी का एसएमएस भी मिलता रहेगा.

उद्देश्य

इस मंच का उद्देश्य एलिटिन्स का एक मजबूत नेटवर्क तैयार करना और इसके जरिये अपने सामाजिक दायित्व को मजबूती से निर्वाह करना होगा. वहीं दूसरी तरफ एलिट इंस्टिच्युट अपने तमाम एलिटियन्स को यह अधिकार भी देगा कि वह आर्थिक रूप से कमजोर पर प्रतिभाशाली छात्रों को फ्री या  स्कॉलरशिप पर कोचिंग कराने के लिए रिकोमेंड कर सकेंगे.

श्री गौतम ने बताया कि आज की तारीख में ऐसे दर्जनों एलिटियन्स हैं जिन्होंने अपना कारोबार खड़ा कर लिया है. ऐसे में एलिट ग्रूप उनके उत्पाद या उनकी सेवाओं का लाभ रियायती मूल्य पर ले सकेंगे.इससे उनके कारोबार का दायरा भी बढ़ेगा और अवसर भी. इसी प्रकार ऐसे सैकड़ों एलिटियन्स हैं जो सफल डाक्टर के रूप में योगदान कर रहे हैं. ऐसे सफल डाक्टरों की भी सामाजिक जिम्मेदारी है. वह अपने एलिटयन दोस्तों के इलाज में भी इस नेटवर्क के सहारे मदद कर सकते हैं.

 

प्रोफाइलamardeep2
नाम- अमरदीप झा गौतम

प्रख्यात फिजिक्स टीचर, कॅरियर काउंसलर
सामाजिक कार्यकर्ता, कवि, नाटककार,

सामाजिक चिंतक और एलिट इंस्टीच्यूट के संस्थापक और निदेशक
पिता  श्री तेज नारायण झा
माता  श्रीमति नगीना झा
जन्म तिथि  12 फरवरी, बेगूसराय
शौक  कविता, गाना, गजल लिखना और किताबें पढऩा
फेवरेट मूवी  पेज थ्री, ब्लैक, डोर, पिंजर, आमिर
बेस्ट एक्टर  अमिताभ बच्चन
बेस्ट एक्ट्रेस  कोंकणा सेन
गजल  जगजीत सिंह और गुलाम अली
फेवरेट नॉवेल  कर्मभूमि, गोदान, दिनकर की कवितायें, जयशंकर प्रसाद की
कामायनी, वाजपेयी जी की मेरी इक्यावन कवितायें का संग्रह शामिल हैं.
इंस्पायरिंग पर्सन  अमिताभ बच्चन, हरेक पल ऐसा लगता है कि वो कुछ न कुछ
सीख रहे हैं… जिज्ञासा है.

आंधियां बहुत तेज हैं कुछ दीप झिलमिलाते हैं
ये वही हैं जो अंधेरों से रौशनी चीर लाते हैं…..

 

श्री गौतम का मानना है कि हजारों एलिटियन्स अपनी भूमिका अलग-अलग रूप में निभा रहे हैं लेकिन एक मजबूत मंच और इसके संस्थानिक स्वरूप के न होने के कारण वे चाह कर भी अपना योगदान बड़े स्तर पर नहीं कर पाते. ऐसे में यह मंच उनमें नैतिक, सामाजिक और राष्ट्र के प्रति भूमिका को संगठित स्वरूप दे सकेगा.

एलिट इंस्टिच्युट पठन पाठन में अपनी गुणवत्ता के अलावा अपने सामाजिक दायित्वों के लिए भी जाना जाता है. वह अपनी ज्ञानोदय योजना के तहत प्रत्येक वर्ष 21 प्रतिभाशाली छात्रों को मुफ्त कोचिंग कराता है. इसके अलावा बालिका शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए छात्राओं को भी विशेष रियायत दी जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*