इन से मिलें जिन्होंने रेलवे में सूचना तकनीक की क्रांति लायी

इन्होंने भारतीय रेल में आये सूचना तकनीक के क्रांतिकारी बदलावों का नेतृत्व किया.1976 बैच के आईआरटीएस अधिकारी सुनील कुमार को सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सेंटर का प्रबंध निदेशक बनाया गया है.

सुनील कुमार

सुनील कुमार

सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सेंटर यानी सीआरआईएस भारतीय रेल की इकाई है जो आईटी से जुड़ी तमाम सेवा और बिजनेस स्ट्रेटजी के लिए जवाबदेह है.

2002 में सुनील की लिखी ‘आईटी विजन 2025 फॉर इंडियन रेलवे’, रेलवे सिस्टम को कम्प्युट्राइज्ड करने का अहम दस्तावेज माना जाता है.

दक्षिण रेलेवे में यात्रियों के लिए टिकट बुकिंग सिस्टम का कम्प्युट्राइजेशन निर्धारित 15 महीने के बदले मात्र तीन महीने में पूरा करके सुनील कुमार ने अपनी प्रशासनिक और तकनीकी क्षमता का परिचय पहले ही दे दिया था. इतना ही नहीं रेलवे में इंटरनेट टिकटिंग सिस्टम लागू करने में भी सुनील कुमार ने महत्वपर्ण भूमिका निभाई है.

इंटरनेट टिकट बुकिंग सिस्टम पिछले कुछ सालों में रेलवे में बड़े पैमाने पर सफल साबित हुआ है. प्रतिदिन इंटरनेट के माध्यम से लाखों लोग घर बैठे टिकट बुक कराते हैं.

कुमार को 1984 में ही रेलवे के सबसे सम्मानित पुरस्कार ‘रेलमंत्री मेडल’ से नवाजा जा चुका है.

अपने 37 साल के करियर में सुनील कुमार ने डीआरएम, चीफ कमर्सियल मैनेजर, रेलवे बोर्ड के ट्रैफिक अलाउवेंस कमेटी के सदस्य समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*