इस दुर्गा रूपी दुर्गाशक्ति नागपाल को जानिए

मात्र छह महीने के छोटे से कार्यकाल में गौतमबुद्ध नगर में बालू माफियाओं की नींदं हराम करने वाली अपने नाम को चरितार्थ करने वाली दुर्गशक्ति के बारे में जानिए.

दुर्गाशक्ति नागपाल

दुर्गाशक्ति नागपाल

अखिलेश सरकार द्वारा निलबिंत किये जाने के बाद चर्चा में आयीं गौतमबुद्धनगर की एसडीएम दुर्गाशक्ति नागपाल साकारात्मक ऊर्जा से भरी एक तेजस्विनी महिला अधिकारी के रूप में चर्चित हुई हैं.

उनके जीवट और जुनून की चर्चा करते हुए नोएडा पावर कम्पनी लिमिटेड(एनपीसीएल) के डीजएम राजीव गोयल कहते हैं ‘दुर्गाशक्ति नागपाल के बारे में जो पहली छवि मेरे मनमस्तिष्क में आती है व ह एक तेजस्विनी की छवि है जो ऊर्जा और हौसले से भरपूर हैं. सत्य का साथ देने के उनके जुनू का नतीजा यह होगा कि वह अपने करियर में एक बार नहीं बल्कि बार बार सस्पेंड होती रहेंगी. यह सस्पेंशन तो भी शुरूआत है’.

पति भी आईएएस

28 वर्षीय दुर्गाशक्ति नागपाल 2010 बैच की आईएएस ऑफिसर हैं. वह 2009 में आईएएस परीक्षा में शामिल हुई थीं.दुर्गा शक्ति नागपाल छत्‍तीसगढ़ की रहने वाली हैं. उन्‍होंने आईएएस परीक्षा में बैठने से पहले कम्‍प्‍यूटर इंजीनियरिंग में ग्रैजुएशन किया. ट्रेनिंग पूरी होने के बाद दुर्गा को 2010 बैच एलॉट किया गया. उन्हें पंजाब कैडर मिला.लेकिन यहां ज्‍वाइन करने के कुछ समय बाद ही उनकी शादी यूपी कैडर के आईएएस अफसर अभिषेक सिंह से हुई जो 2011 बैच के आईएएस अफसर हैं.

कुछ हफ्तों से ग्रेटर नोएडा में अवैध खनन पर लगाम कसने के लिए नागपाल युद्धस्तर पर काम कर रही थीं.उन्होंने यमुना नदी से रेत से भरी 300 ट्रॉलियों को अपने कब्जे में किया था. नागपाल ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यमुना और हिंडन नदियों में खनन माफियाओं पर नजर रखने के लिए विशेष उड़न दस्तों का गठन किया था.इस छोटी सी अवधि में अवैध खनन माफियाओं पर जुर्माना लगा कर दुर्गा ने सरकार के खजाने में 82 लाख भरे थे.

इस मामले में उन्होंने 30 से ज्यादा एफाईआर किया था और 20 रेत माफियाओं को गिरफ्तार भी किया गया था.

दुर्गाश्कित नागपाल के प्रति मीडिया और जन दबाव के नतीजे अगले कुछ दिनों में देखने को मिल सकते हैं.खबरें आ रही हैं कि मुख्यमंत्री निलंबन का आदेश वापस ले सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*