एआईपीएमटी का नकली प्रश्नपत्र लीक करने वाले गिरोह के आठ लोग गिरफ्तार

बीते रविवार (1 मई) को पूरे देश में एक साथ आयोजित ‘ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट’ (एआईपीएमटी) परीक्षा का  नकली प्रश्न पत्र लीक कराने और इलेक्ट्रानिक डिवाइस के माध्यम से परीक्षा केन्द्र में बैठे परीक्षार्थियों का प्रश्न हल कराने वाले एक गिरोह के आठ सदस्यों को यूपी एसटीएफ ने रविवार को वाराणसी में गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार गिरोह के लोग

गिरफ्तार गिरोह के लोग

विनायक विजेता

गिरफ्तार किए गए अपराधियों में एक छात्रा सहित बिहार के तीन अपराधी शामिल हैं। हालांकि छानबीन के बाद यह पता चला है कि लीक प्रश्न पत्र नकली थे और वह एआईपीएमटी के प्रश्नपत्र से मेल नहीं खा रहे थे.

गिरोह का सरगना अभिमन्यु कुमार पटना के आलमगंज थाना अंतर्गत नुरानी बाग मुहल्ले का निवासी है। पटना के एयरपोर्ट थाना अंतर्गत 125 बीएमपी रोड निवासी संजय कुमार व समस्तीपुर के पुसा निवासी सुबोध कुमार की पुत्री प्रियंका ठाकुर को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया। गिरोह के सदस्यों की गिरफ्तारी ‘एआईपीएमटी’ परीक्षा शुरु होने के कुछ देर पहले ही हुई।

यूपीएसटीएफ की सूचना

इस गिरोह के गिरफ्तार सदस्यों के पास से 2 लाख रुपये नकद, एक पिस्टल, इलेक्ट्रानिक डिवाइस व तीन लग्जरी गाड़ियां बरामद की गई हैं। यूपी एसटीएफ के एसएसपी अमित पाठक ने दूरभाष पर बताया कि युपी एसटीएफ को यह जानकारी मिली थी कि यह गिरोह बिहार युपी सहित पूरे देश में सक्रिय है और रविवार को आयोजित (एआईपीएमटी) परीक्षा के प्रश्नपत्र के लीक की तैयारी में है। उन्हें यह भी जानकारी मिली की गिरोह ने वाराणसी में फिलवक्त अपना केन्द्र बना रखा है।

इस महत्वपूण सूचना के बाद एसटीएफ के वाराणसी फील्ड इकाई के डीएसपी ज्ञानेन्द्र नाथ प्रसाद की अगुवाई में एक टीम का गठन किया गया जिसने रविवार को वाराणसी के ढेलुपुर स्थित परीक्षा केन्द्र आरएस कान्वेन्ट स्कूल के बाहर जाल बिछाकर गिरोह के सरगना अभिमन्यु कुमार और उसकी भांजी प्रियंका ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया।

सरगना अभिमन्यु

इन दोनों की निशानदेही पर परीक्षा केन्द्र से कुछ दूर खड़े छह अन्य अपराधियों का भी गिरफ्तार कर लिया गया। इस गिरोह के गिरफ्तार सदस्यों के पास से 2 लाख रुपये नकद, एक पिस्टल, इलेक्ट्रानिक डिवाइस बिहार नंबर वाली एक वैगनऑर, एक लग्जरी पोलो कार व एक इंडीवर सहित एक होंडा सीडी मोटरसाइकिल भी बरामद की गई।

गिरोह के सरगना अभिमन्यु ने युपी एसटीएफ को बताया कि पटना का ही रहने वाला नीलेश नामक उसके एक मित्र ने उसे इस धंधे में यह कहकर उतारा था कि इसमें काफी कमाई है। अभिमन्यु ने बताया कि उसे शनिवार को दोपहर ही रविवार को आयोजित (एआईपीएमटी) परीक्षा के प्रश्नपत्र मिले थे जिसकी कुछ कॉपी उसने पटना भेज दी थी पर शाम होते-होते यह पता चला कि वह प्रश्नपत्र सही नहीं थे।

रविवार को ऑरीजनल प्रश्नपत्र लीक करने और प्रश्नपत्र को साल्व करवाने के उद्देश्य से ही गिरोह के सदस्य इस परीक्षा केन्द्र के बाहर जूटे थे। इधर इस संदर्भ में पूछे जाने पर पटना के एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि यूपी एसटीएफ या युपी पुलिस द्वारा इस गिरफ्तारी की कोई आधिकारिक सूचना उन्हें अभी तक प्राप्त नहीं हुई है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*