ऑटोमेटिक वेदर रिपोर्टिंग: बिहार में 3 दिसम्बर से क्रांतिकारी बदलाव

मौसम विज्ञान के क्षेत्र में बिहार एक क्रांतिकारी बदलाव का गवाह बनने को तैयार है इसके तहते ऑटोमेटिक वेदर रिपोर्टिंग सिस्टम राज्य के 50 स्थानों पर काम करने लगेगा.

सांकेतिक फोटो

सांकेतिक फोटो

इस सिस्टम की शुरूआत 3 दिसम्बर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे.

योजना और विकास विभाग के प्रधान सचिव विजय प्रकाश ने नौकरशाही डॉट इन को बताया है कि इस सिस्टम का संचालन उनका विभाग करेगा लेकिन इससे प्राप्त होने वाले डॉटा तक सबकी पहुंच होगी.

इस सिस्टम के शुरू हो जाने पर मौसम से संबंधित महत्वपूर्ण सूचनायें खुद ब खुद पंचायत के मुखिया से लेकर प्रखंड स्तर तक के अधिकारियों तक एसएमएस द्वारा पहुंच जाया करेंगी.

विजय प्रकाश ने कहा कि मौसम में अचानक आये बदलाव जैसे- तूफान, बारिश, चक्रवात आदि की सूचनायें मिलने के बाद आवश्यक कार्रवाई के लिए काफी कम समय होता है लेकिन इस सिस्टम के शुरू हो जाने से अनिवार्य सूचनायें त्वरित रूप से गांव-गांव तक पहुंच जायेंगी जिससे सावधानी बरतने के लिए पर्याप्त समय मिल जायेगा. उन्होंने कहा कि इस सिस्टम के तहत फिड किये गये मोबाइल पर कम्प्युटराइज्ड एसएमस ( शार्ट मैसेज सर्विसेज) ओटोमेटिकली चला जायेगा.

ऑटोमेटिक वेदर रिपोर्टिंग सिस्टम, मौसम से संबंधित तमाम डाटा के संग्रह और उसके अध्ययन का काम करेगा जिसके आधार पर राज्य में विकास योजनाओं को बनाने और उन्हें लागू करने में सहायता करेगा.

विजय प्रकाश का कहना है कि इस सिस्टम से प्राप्त होने वाले डाटा को अन्य विभाग भी एक्सेस कर सकेंगे. उन्होंने कहा कि इस सिस्टम से प्राप्त सूचनाओं के विश्लेषण के लिए बहुत विशेषज्ञता की जरूरत नहीं पड़ेगी. उन्होंने कहा कि अभी तक मौसम विज्ञान की सूचनायें संबंधित विभाग को प्राप्त होती हैं पर उन्हें तत्काल दूर दराज तक पहुंचाने का मेकानिज्म हमारे पास नहीं है जिसके कारण सावधानी बरतने के लिए काफी कम समय मिल पाता है लेकिन इस सिस्टम के शुरू हो जाने के बाद सूचनाओं का प्रवाह काफी तेज हो जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*