कचरा प्रबंधन को लेकर अपनी सोच व आदत बदलनी होगी

बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कचरों (अपशिष्ट) को कम्पोस्ट (जैविक खाद) में बदलकर इसे आय का स्रोत बनाने पर बल दिया और कहा कि सभी तरह के कचरों की मात्रा बढ़ती जा रही है, जो चिंता का विषय है ।anjai 

 

श्री सिंह ने आज पटना में बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की ओर से ठोस अपशिष्ट प्रबंधन विषय पर आयोजित कार्यशाला का उद्घाटन करने के बाद कहा कि बढ़ती हुयी आबादी एवं बढ़ते बाजार के कारण सभी तरह के कचरों की मात्रा आये दिन बढ़ती जा रही है । सभी तरह के कचरों का आये दिन बढ़ना चिंता का विषय है और इस पर नियंत्रण के लिए सभी के सहयोग की जरूरत है । मुख्य सचिव ने कहा कि हमें भी गंदगी में रहने की आदत पड़ गयी है । सभी विकसित देश ऐसे हालात से गुजर चुके हैं । उन्होंने कहा कि आज हमें अपनी सोच एवं आदतें बदलनी होगी और अपने-अपने इलाकों को स्वच्छ एवं प्रदूषण मुक्त बनाना होगा । इसके लिये लोगों को आगे निलकर आना होगा ।

 

श्री सिंह ने सभी निकायों से यह अपेक्षा की कि वे अपने-अपने इलाकों से निकले कचरों का निपटान भी अपने ही क्षेत्र में सुनिश्चित करेंगे । उन्होंने कहा कि सभी निकाय ऐसे कचरों को जैविक खाद में बदलकर इसे आय का स्रोत बना सकते हैं । इससे सभी निकायों की जहां आय बढ़ेगी वहीं संबंधित क्षेत्र का भी विकास होगा ।  पर्यावरण एवं वन विभाग के प्रधान सचिव और राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के अध्यक्ष विवेक कुमार सिंह ने कहा कि विभिन्न प्रकार के कचरों को निपटाने के लिये अलग-अलग नियमावली बनायी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*