कठिन परिश्रम की वजह से सच हुआ मेरा सपना : सिमरा खान

ICSE बोर्ड से 12th में गर्ल्‍स टॉपर सिमरा खान ने अपनी सफलता का श्रेय कठिन परिश्रम को दिया है. सिमरा को साइंस स्‍ट्रीम में 12th के एग्‍जाम में 90.6 % मार्क्‍स आए हैं. सिमरा ने ये साबित कर दिया गया कठिन मेहनत और लगन से परिश्रम करने वालों का सपना सच होता है.  

नौकरशाही डेस्क

नवादा के पकड़ी बरवान गांव की रहने वाली हैं. सिमरा ने न सिर्फ अपने पिता मो. सबाउल हैदर खान और मां नाज़नी खान को ही गौरवान्वित किया, बल्‍कि नवादा का भी नाम रौशन किया है. अपनी सफलता को लेकर सिमरा कहती हैं कि ICSE बोर्ड से 12th में 91% मार्कस लाने से सच में मुझे गर्व महसूस हो रहा है.  मैं अपने पैरेंटस के प्रति आभार व्‍यक्‍त करती हूं, जिन्‍होंने मुझे हमेशा सपोर्ट किया.

सिमरा के अनुसार, मैथ्‍स में 95 मार्क्‍स मेरे लिए बहुत बड़ा अचीवमेंट है. मैंने कठिन परिश्रम किया और अपना बेस्‍ट दिया, जिससे मेरा सपना सच हुआ. हालांकि मैथ्‍स में 95 मार्क्‍स लाने वाली अपना फ्यूचर मेडिकल के क्षेत्र में देखती हैं. सिमरा कहती हैं कि वे डॉक्‍टर बनना चाहती हैं. इसलिए वो बायोलॉजी में इंटरेस्‍टेड हैं. बता दें कि सिमरा माउंट कारमेल स्‍कूल की छात्रा हैं. ओवर ऑल साइंस स्‍ट्रीम में अमरतुल्‍लाह मदरवाल ने पहला स्‍थान हासिल किया है. जबकि कॉमर्स में मुनीरा लोदगर 93% और मरीसा सांडिल्‍य 93.8% के साथ बाजी मारी.

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*