कहां जा रही है मानवाता?

8 मार्च को पूरी दुनिया एक ओर जहां महिला दिवस पर महिलाओं के शान में कशीदे पढ़ रही थीी वहीं दूसरी तरफ एक मां ने जन्‍म के तुरंत बाद नवजात बेटी को सड़क के किनारे फेंक दिया क्‍यों?

प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

सैयद नकी इमाम, पटना

इस मां का कुसूर इतना ता कि उसने तीसरी बार बेटी को जन्म दिया . घटना पटना के निकट परसा बाजार थाना के कुरथौल गांव की है.लोग  सडक के किनारे नवजात के रोने की आवाज पर जमा हुए तो पूरा मामला प्रकाश में आया। पुलिस ने नवजात बच्‍ची को उठा कर चाइलड लाइन में दे दिया है.

यह घटना एक मां की बेबसी की मिसाल है जो बयान करती है कि आज जब एक तरफ बेटियां दुनिय में अपना मुकाम बना रही हैं वहीं दूसरी तरफ हमारे समाज का एक वर्ग ऐसे भी है जो बेटी को बोझ समझता है.

और उसी का नतीजा है कि एक मां को अपनी ममता की कुर्बानी दे कर अपने जिगर के टुकरे को खुद से अलग करने को मजबूर होना पड़ा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*