काला झंडा की भेंट चढ़े एसपी, 15 अन्य भी बदले

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह को बालोद में काला झंडा दिखाये जाने के बाद अब वहां के एसपी डीएल मनहर पर गाज गिर ही गयी है. डीएल मनहर समेत राज्य सरकार ने 28 जिलों में से 16 में नए एसपी तैनात किया है.

रायपुर एसएसपी दीपांशु काबरा को स्टेट इंटेलीजेंस ब्यूरो के डीआईजी के पद पर तैनात किया गया है.

कुल 28 अधिकारियों को इधर से उधर किया गया है.

बालोद के एसपी से नाराज चल रहे थे रमन सिंह

बालोद जिला के प्रथम उत्सव के दौरान बालोद में मुख्यमंत्री की सभा में कांग्रेसियों द्वारा काले झंडे लहराये गये थे. कांग्रेसियों ने एक ट्राइबल लड़की का बलात्कार किये जाने के विरोध में दिखाया था.

पुलिस महकमे में किए गए फेरबदल को विधानसभा चुनाव की तैयारियों से जोड़कर भी देखा जा रहा है. कुछ नाम केवल प्रशासनिक फेरबदल की दृष्टि से इस सूची में आए हैं. पर कुछ को अच्छा काम करने के कारण उन स्थानों पर भेजा गया है जहां अधिक जिम्मेदारियां हैं.

कांकेर में अपने अच्छे काम से प्रभावित करने वाले राहुल भगत को रायगढ़ भेजा गया है. इसी प्रकार महासमुंद में नक्सल गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए युवा आईपीएस नीतू कमल को लगाया गया है.
कई मामलों में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों की पंसद का भी ख्याल रखा है. रायगढ़ एसपी आनंद छाबड़ा को उनकी पसंद पर दुर्ग की पोस्टिंग दी गई है. इसी तरह आरएन दास को भी बेहतर परफारमेंस के आधार पर कांकेर की जिम्मेदारी सौंपी गयी है.

बताया जाता है कि चुनाव के पहले रायपुर एसएसपी काबरा को बदलने का दबाव चुनाव आयोग की तरफ से आ सकता था क्योंकि उन्होंने वहां अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा कर लिया था. काबरा को वहां से हटा दिया गया है. उनके स्थान पर दुर्ग के एसपी ओपी पॉल को रायपुर लाया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*