किस्मत का खेल निराला:जीवन रेजिस्ट्रेशन की जल्दबाजी में मां समेत छह की गयी जान, नवजात बचा सलामत

किस्मत अजीब खेल दिखाती है. इस परिवर में एक बच्चे के जन्म के बाद उसके जीवन के रजिस्ट्रेशन की जल्दबाजी के चक्कर में परिवारके चार सदस्यों समेत छह लोगों को अपनी जान गंवा कर चुकानी पड़ी जबकि घंटे भर पहले जन्मे बच्चे का बाल तक बांका न हुआ.
नौकरशाही ब्यूरो,मुकेश कुमार
 
 
जमुई(बिहार)।जिले के सिकन्दरा- शेखपुरा NH 333 ए पर लहिला गांव के समीप गुरुवार की देर रात सड़क दुर्घटना में 6 लोगों की मौत हो गई।
 
 
मृतकों में चार महिला और दो पुरुष शामिल हैं।सभी मृतक लखीसराय के हलसी थानान्तर्गत तरहारी गांव के बताए जाते हैं। घटना देर रात करीब 2 बजे की है।
 
 
दुर्घटना की सूचना पर सिकन्दरा पुलिस तत्काल घटना स्थल पर पहुंची हालांकि सभी की मौत हो चुकी थी।घटनास्थल से पुलिस ने गाड़ी से मृतकों के शव को बाहर निकालने के क्रम में एक नवजात को जीवित पाया।
 
 
 
नवजात को सिकन्दरा अस्पताल में रखा गया है।सभी मृतक की लाश को रात में ही सदर अस्पताल भिजवाया गया हैं।
 
 
बताया जाता है कि गुरुवार की रात निवास पांडेय की पुत्री अर्चना कुमारी ने पुत्री को जन्म दिया था।जच्चा-बच्चा ठीक था।गांव की आशा अंजना कुमारी का कहना था कि अभी ही बच्चे का नाम अस्पताल में इंट्री कराना जरूरी है।
 
 
 
आशा की बात पर किसी व्यक्ति की निजी स्विफ्ट गाड़ी से सभी को लेकर घर के अभिभावक निवास पांडेय रात में ही सिकंदरा अस्पताल के लिए निकल पड़े। रात के करीब 2 बजे लाहिला गांव के समीप कार सड़क पर खड़ी ट्रक में टकरा गई। यह टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार के परखच्चे उड़ गए। कार में बैठे सभी 6 लोगों की मौत हो गई।
 
 
हालांकि नवजात बच्चे की जान बच गई है।इस दुःखद हादसे में मरने वालों में निवास पांडेय 53 वर्ष,अर्चना (पुत्री) 25वर्ष,पत्नी सीमा देवी 50 वर्षआशा कार्यकर्ता,अंजना कुमारी40वर्ष,पड़ोसी साबित्री देवी 58वर्ष एवं गाड़ी चला रहे चालक बिपुल सिंह 45 वर्ष शामिल हैं।
 
सदर अस्पताल में मृतक के परिजन पहुंच चुके हैं। लोगों की भीड़ लगी है। पोस्टमार्टम की तैयारी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*