कौन है गद्दार और कौन वफादार, आइए बताते हैं

वोट के सौदागरों के इस देश में कौन है हमदर्द और कौन है बेदर्द. कौन वतनपरस्त है और कौन है ग्द्दार. दादरी से मुजफ्फराबाद तक और पूणे से जेएनयू तक हो रही सियासत की बखिया उधेड़ रहे हैं अभिरंजन कुमार.jnu2

भारत जैसे जटिल देश की राजनीति भी बेहद शातिराना तरीके से खेली जाती है। इस ग्लोबल देश में व्यूह रचनाएं अब इस तरह से होने लगी हैं कि बिहार चुनाव को प्रभावित करना हो, तो दादरी में एक घटना करा दो और उसे राष्ट्रीय ही नहीं, अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बना दो। एक आदमी बलि का बकरा बनेगा, तो हज़ारों-लाखों नेताओं-कार्यकर्ताओं-पूंजीपतियों-ठेकेदारों की देवियां और अल्लाह ख़ुश हो जाएंगे। एक अख़लाक को बलि का बकरा बनाने से आपको मालूम ही है कि कितनों की देवियां और अल्लाह उनपर मेहरबान हो गए!

वोटों की सौदागरी

बिहार वाया दादरी के कामयाब एक्सपेरिमेंट से समस्त राजनीतिक दलों का दिल बाग-बाग हो उठा है। अब यूपी वाया हैदराबाद वाया जेएनयू वाया यहां वाया वहां की व्यूह-रचना की जा रही है, और दूरगामी लक्ष्य 2019 का लोकसभा चुनाव है। सभी राजनीतिक दल अपने-अपने हिसाब से अलग-अलग जातियों और संप्रदायों की गोलबंदी करने में जुटे हैं।

सत्तारूढ़ पार्टी को लगता है कि वह हिन्दुओं की गोलबंदी करके न सिर्फ़ यूपी में, बल्कि दोबारा केंद्र की सत्ता भी हासिल कर सकती है, लेकिन यह अत्यंत सरलीकृत राजनीतिक रणनीति है। यह तब कामयाब होती, जब भारतीय मानस सिर्फ़ सांप्रदायिक आधार पर विभाजित होता। सच्चाई यह है कि भारत जितना सांप्रदायिक आधार पर विभाजित नहीं है, उससे ज्यादा जातीय आधार पर विभाजित है। संप्रदाय दो-चार हैं और जातियां सैकड़ों-हज़ारों हैं। इसलिए विपक्ष की रणनीति मुसलमानों, दलितों और उन अन्य हिन्दू जातियों की गोलबंदी करने की है, जो अपने को शोषित-वंचित मानती रही हैं और जिनके मन में कथित सवर्णवादी ब्राह्रमणवादी मनुवादी व्यवस्था के ख़िलाफ़ गहरा आक्रोश है।

 नफरत के बीज

दोनों धड़े अपने-अपने हिसाब से जिस तरह की गोलबंदियां कराने का प्रयास कर रहे हैं, उसके लिए समाज में नफ़रत के बीज बोना अनिवार्य है। अगर आप मुसलमानों के ख़िलाफ़ नफ़रत के बीज नहीं बोएंगे, तो हिन्दुओं की गोलबंदी नहीं होगी और हिन्दू गोलबंद नहीं होंगे, तो पहले धड़े का खेल खत्म हो जाएगा। इसी तरह, अगर आप कथित सवर्णवादी ब्राह्रमणवादी मनुवादी व्यवस्था का हौवा खड़ा नहीं करेंगे, तो हिन्दू जातियां मुसलमानों के साथ मिलकर वोट नहीं करेंगी और अगर वे मुसलमानों के साथ मिलकर वोट नहीं करेंगी, तो दूसरे धड़े का खेल खत्म हो जाएगा। इसीलिए दोनों धड़े अपना-अपना खेल बचाने के लिए नफ़रत का खेल खेल रहे हैं।

वे लोगों के दिल तोड़कर और उनके दिलों से ख़ुदा को निकालकर वहां शैतान को बिठाना चाहते हैं। ध्रुवीकरण की गंदी राजनीति देश की बड़ी आबादी को नफ़रत और अवसाद का मरीज़ बनाने पर आमादा है। हमारे असली दुश्मन पाकिस्तान या दूसरे मुल्कों में बैठे लोग नहीं, बल्कि हमारे ख़ुद के बगल में बैठे हमारे हमदर्द हैं।

नफ़रत के इसी खेल के तहत आज हमारे सियासी बाज़ार में अजीबोगरीब थ्योरियां बिक रही हैंं। एक धड़ा आतंकवादी हमलों के हवाले से ऐसा इम्प्रेशन देने की कोशिश करता है कि अधिकांश मुस्लिम आतंकवादियों से सहानुभूति रखते हैं और उन्हें सचमुच में इस्लाम के लिए कुर्बानी देने वाले वीर जवान मानते हैं। इसी तरह दूसरा धड़ा यह इम्प्रेशन देने की कोशिश करता है कि इस देश में दलितों की “सांस्थानिक हत्या” और मुसलमानों की “न्यायिक हत्या” की जा रही है और “आरक्षण” उनके कई मर्ज़ो का एकमात्र इलाज है।

झूठ का व्यापार

दोनों तरफ़ से झूठ का व्यापार हो रहा है और पब्लिक को भी सच नहीं चाहिए, क्योंकि मानव-मन में भरोसे और भाईचारे की तुलना में अविश्वास और दुश्मनी ज़्यादा टिकाऊ होती है। भरोसा और भाईचारा बनाने में सदियां बीत जाती हैं, जबकि अविश्वास और दुश्मनी को एक पल में क्रिएट किया जा सकता है। और एक बार जब मन में अविश्वास और दुश्मनी का भाव आ जाए, तो इसे भरोसे और भाईचारे की तरफ मोड़ना अगर असंभव नहीं, तो अति-कठिन तो है ही।

महात्मा कबीर ने भी कहा है-

“मंदिर तोड़ो, मस्जिद तोड़ो, यह सब खेल मज़ा का है

पर किसी का दिल मत तोड़ो, यह तो वास ख़ुदा का है।”

आज ये सच्चाइयां सुनने और स्वीकार करने के लिए कोई तैयार नहीं है कि न तो हर मुस्लिम आतंकवादी है, न ही किसी दलित या मुसलमान की “सांस्थानिक” या “न्यायिक” हत्या की जा रही है। 125 करोड़ लोगों के देश में इक्का-दुक्का अपवादों को नियम की तरह पेश करने का पाप किया जा रहा है।

तो सच्चाई क्या है

सच्चाई यह है कि रोहित वेमुला को किसी संस्थान ने नहीं मारा। या तो वह ख़ुद अपने नकारात्मक विचारों की मौत मरा या फिर उसे उसके इर्द-गिर्द के शातिर सियासतदानों ने अवसाद का मरीज़ बनाया। हो सकता है, उन्हीं में से किसी ने उसे आत्महत्या करके क्रांतिकारी बनने का नुस्खा भी सुझाया होगा। इसी तरह अफजल और याकूब को भी किसी न्यायालय ने नहीं मारा, वह गुमराही और हिंसा के रास्ते जाकर ख़ुद मरा। जिन्हें इन घटनाओं में दलित और मुसलमान एंगल ढूंढ़ना है, ढूंढ़ते रहें और भीतर-भीतर कुढ़कर अपनी सकारात्मक ऊर्जा को बर्बाद करते रहें।

वे लोगों के दिल तोड़कर और उनके दिलों से ख़ुदा को निकालकर वहां शैतान को बिठाना चाहते हैं। ध्रुवीकरण की गंदी राजनीति देश की बड़ी आबादी को नफ़रत और अवसाद का मरीज़ बनाने पर आमादा है। हमारे असली दुश्मन पाकिस्तान या दूसरे मुल्कों में बैठे लोग नहीं, बल्कि हमारे ख़ुद के बगल में बैठे हमारे हमदर्द हैं।

इसलिए एक नारा मैं भी देना चाहता हूं-

हम-दर्दों को दूर भगाओ।

ग़म-दर्दों से राहत पाओ।

abhiranjanअभिरंजन कुमार बेबाक टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं. प्रिंट से ले कर टीवी  के साथ साथ वेब पत्रकारिता में सक्रिय हैं

One comment

  1. गलत को सही और सही को गलत -सब गड्ड मड्ड कर रहे है अपनी तरह से
    ——————————————————————————————————————————
    देश नहीं हो गया कोई मज़ाक हो गया देश द्रोह के नारे लगाना |
    बड़े बेखौफ थे उस दिन तो सब जे इन यू मेँ — घर घर से अफज़ल निकलेगा ,गो बैक इंडिया गो बैक | या कल्चरल नाईट में अफज़ल पर क्या बात करना थी बताइये | सर्वोच्च न्यायपालिका ने फैसला दिया ,अमल हुआ ये काफी नहीं आपके लिए क्या देश के सपूतो | अब जब सरकार अपना काम कर रही है ,देश के गद्दारो को पकड़ रही है तब लगे हल्ला करने ,उन्हें महान ,सही ठहराने | अरे जनाब ये गलत है तो गलत ही है पर ये तुलना भी गलत है की उन्होंने गलत किया तब ——-तो वो भी कौन सही कहलायेंगे …….

    हां मुझे खेद है अब ये बाते सुन कर की एबीवीपी के लोग राजनितिक फायदे के लिए पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगा रहे थे इस सबब के साथ की उन्हें ( पकडे गए छात्र नेता के संगठन को ) बदनाम किया जा सके | अब ये सही है तो सही नहीं कहा जायेगा उन्हें भी इसमें क्या दूसरा मत है बुद्दिमान जनों ,ये भी देश द्रोह ही है इनका भी ,वैसा ही जैसा गोडसे का महिमामंडन ,पूजन ,मूर्ति लगाना मुझे तो किसी भी गुनाह से काम नहीं लगता चाहे उसे भाजपा या कोई भी संघठन सहमति दे तब भी या कोई लेफ्टिस्ट या जो भी विचारधारा अफज़ल को घर घर में पैदा होने की चेतावनी देकर कश्मीर की आज़ादी की बात कर रहे है वो भी उतने ही गलत है | सब पर समान कारवाही की जाए ……बस

    क्षमा करे
    आप बुद्धिशाली लोग देश को ,गुमराह नहीं करे अब बस | जो बात देश के हित की नहीं वो सही नहीं चाहे वो किसी ने भी कही हो कोई फर्क नहीं पड़ता | सबसे पहले देश ,भारत ,भारतीयता है बस —— ये जान लीजिये | अब आप सबकी ये कुटिल बाते आम भारतीयों का खून खोला रही है ये जान लीजिये क्योकि आप ये जहर राजनीती का अब बच्चो में ,केम्पस के जरिये भर रहे है जो बिलकुल क़बूल नहीं किसी भी भारतीय को |

    चाहे जो कोई भी हो देश विरोधी बात करेगा वो बस गद्दार है ,गुनहगार है ——–उसे जस्टिफाई मत करिये हाथ जोड़ता हु –देश इसी तरह से टूटते है जान कार बता कर गए है …….आप भी इतिहास पढ़िए सरजी लोगो ——–

    या फिर आप कहते है गोडसे को महान बताने वाले सही है तो मै ये ही कहूँगा आपका पुत्र या बच्चे भी गोडसे की तरह से पैदा हो ये दुआ करिये फिर तो —या आप कहेंगे की वो अफज़ल अब घर घर से निकलेगा ,या गो इंडिया गो फ्रॉम कश्मीर के नारे लगाने वाले सही है तो आपका बेटा या बेटी भी अफज़ल की तरह से हो ये दुआ करूँगा फिर तो क्योकि आप उनकी समझ से सहमत जो है आज ……..

    निवेदन है हम आम भारतीयों के सब्र का अब और इम्तिहान ना ले बुद्धिशाली प्रबुद्ध जनों ——

    -लक्ष्मण पार्वती पटेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*