गैर राजनीतिक पदों से भाजपा वफादारों की बेदखली शुरू

बिहार सरकार से मंत्रियों को बर्खास्त करने के पांच माह बाद जदयू ने पहली बार अब भाजपा कोटे के गैर राजनीतिक पदों पर धावा बोलना शुरू कर दिया है. पहला निशाना विधि विभाग के अधिकारी बने हैं.patna.highcourt

इस चपेटे में आने वाले सरकारी वकील हैं. भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद के रिश्तेदार वीएमके सिन्हा को अपर महाधिवक्ता के पद से हटा दिया गया है तो वहीं दूसरी तरफ पूर्व मंत्री नंदकिशर यादव के रिश्तेदार शैल कुमारी को भी हटा दिया गया है.

विधि विभाग ने बुधवार को इसकी अधिसूचना जारी कर दी. नई सूची में 14 अपर महाधिवक्ता, 13 राजकीय अधिवक्ता, 32 स्थायी सलाहकार एवं 32 सरकारी वकील हैं.
हालांकि विधान परिषद के पूर्व सभापति ताराकांत झा पर खास मेहरबानी जतायी गयी है, इसके बावजूद कि वह भाजपा से संबंध हैं. माना जा रहा है कि जदयू से ताराकांत झा के व्यक्तिगत संबंधों का लाभ उनके पुत्र कौशल कुमार झा को मिला है और उन्हें अपर महाधिवक्ता बनाया गया है. इस पद दूसरे अशोक कुमार चौधरी हैं.

भाजपा से जुड़े अन्य सरकारी वकीलों में मुख्य चेहरे हरेन्द्र प्रताप सिंह, जीके अग्रवाल, संजय कुमार, शैल कुमारी (पूर्व मंत्री नंदकिशोर यादव की रिश्तेदार), राजेश कुमार वर्मा, महेश्वरधर द्विवेदी हटाये गये हैं.
इस बात का आभास भाजपा कोटे के कई वकीलों को था. जिसके कारण सरकारी अधिवक्ता के पद पर रहे प्रभाकर टेकरीवाल एवं अवधेश कुमार पांडेय ने पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया था.

कयास लगाया जा रहा है कि विधि विभाग के बाद नीतीश सरकार जल्द ही भाजपा कोटे के मनोनीत विभिन्न आयोगों के सदस्यों को भी चलता करने वाली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*