चार राज्य, 589 विधायक, इनमें 8 मुसलमान

चार राज्यों के हुए 589 विधानसभा सीटों के चुनाव में इस बार 8 मुस्लिम विधायक चुने गये हैं, जबकि पिछली बार यह संख्या 20 थी.muslim.v

ज़ीशान शेख

ये चार राज्य हैं- मध्यप्रदेश, राजस्थान, दिल्ली और छत्तीसगढ़. इस गणना में मिजोरम शामिल नहीं है जहां मुसलमानों की संख्या काफी कम है और वहां एक भी मुस्लिम विधायक नहीं चुना गया.

इन चार हिंदी भाषी राज्यों में मुसलमानों की अवसत संख्या 7.03 प्रतिशत है. इस प्रकार विधानसभाओं में उनका प्रतिनिधित्व 1.35 प्रतिशत बैठता है.

सबसे बुरी स्थिति राजस्थान की रही है. जहां पिछली, यानी 2008 की विधानसभा में 12 मुस्लिम सदस्य थे लेकिन इसबार यह संख्या महज 2 रह गयी है. पर दिलचस्प बात यह है कि इस बार जो 2 मुस्लिम विधायक राजस्थान से चुन कर आये हैं वे दोनों के दोनों भारतीय जनता पार्टी से ही हैं.

ये दोनों विधायक- युनूस खान (दीदावन से) और हबीबुर्हमान (नौगौर से) हैं. भाजपा ने चार मुस्लिमों को टिकट दिया था. जबकि कांग्रेस ने 16 मुसलमानों को चुनाव लड़ाया था. सभी कांग्रेसी मुस्लिम हार गये.

इसी प्रकार दिल्ली में 5 मुस्लिम विधाक चुने गये हैं. इनमें चार कांग्रेस से और एक जनता दल यू से. ओखला से चुनाव जीतने वाले आसिफ मोहम्मद खान एक मात्र विधायक हैं जो पहली बार विधाक बने हैं. आम आदमी पार्टी ने 6 मुसलमानों को टिकट दिया था, पर इनमें से एक भी नहीं जीत सका.

मध्यप्रदेश में सिर्फ एक मुस्लिम प्रत्याशी की जीत हुई है ये प्रत्याशी हैं आरिफ वकील. वकील कांग्रेस से भोपाल उत्तरी सीट से जीते हैं. मध्यप्रदेश से भाजपा ने मात्र एक मुस्लिम प्रत्याशी आरिफ बेग को खड़ा किया था जो चुनाव हार गये.

जहां तक छत्तीसगढ़ की बात है, यहां से एक भी मुस्लिम प्रत्याशी विधायक नहीं बन सका. जबकि 2008 में यहां से 2 विधायक मुस्लिम थे.

इंडियन एक्सप्रेस से साभार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*