चिदंबरम के बाद तेजस्‍वी ने भी दिया कन्‍हैया के पक्ष में बयान, जानिये क्‍या कहा

JNUSU के पूर्व प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार पर देश विरोधी भाषण देने के मामले पर चार्जशीट दायर होने के बाद राजद नेता तेजस्‍वी यादव ने पहली बार उनके समर्थन में बयान दिया और कहा कि जो भी भाजपा के खिलाफ बोलता हैं। उसके खिलाफ केस दर्ज होता है। मालूम हो कि इससे पहले कांग्रेस वरिष्‍ठ नेता व पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ देशद्रोह के आरोप हास्यास्पद बता चुके हैं।

P. Chidambaram

नौकरशाही डेस्‍क

महागठबंधन के दही चूड़ा भोज में कांग्रेस मुख्‍यालय पहुंचे तेजस्‍वी यादव से जब इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्‍होंने कहा कि जो भी भाजपा के खिलाफ बोलता हैं, उसके खिलाफ केस दर्ज होता है। हमारे फिल्ड के लोगों के साथ भी ऐसा ही हो रहा हैं।

1200 पन्नों की चार्जशीट

गौरतलब है कि देश की प्रतिष्ठित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य समेत 10 छात्रों के खिलाफ देशद्रोह के मामले में दिल्ली पुलिस ने पटियाला हाउस कोर्ट में मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सुमीत आनंद की कोर्ट में 1200 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की। पुलिस ने जेएनयू परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर भारत विरोधी नारे लगाने के मामले में यह चार्जशीट दाखिल की है।

ये भी पढ़े : जन्मदिन पर मुस्लिमों के पक्ष में कूदीं Mayawati, कहा सवर्णों की तरह लागू हो Muslim Reservation

देशद्रोह का आरोप हास्यास्पद

जिस पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा था कि कन्‍हैया के खिलाफ देशद्रोह का आरोप हास्‍यास्‍पद है। उन्‍होंने कहा कि क्‍या दिल्‍ली पुलिस की जांच टीम को आईपीसी की धारा 124ए पर कानून की जानकारी है? चिदंबरम ने लिखा दिल्‍ली पुलिस ने कभी इसे पढ़ा भी है? चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, ”कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ देशद्रोह का आरोप हास्यास्पद है।अगर राजद्रोह का आरोप लगाने में 3 साल और 1200 पेज लगते हैं (सार्वजनिक भाषण के आधार पर), तो यह अकेले ही सरकार की नीयत पर सवाल खड़े करता है।”

लगी हैं कौन – कौन सी धाराएं

पुलिस का आरोप है कि कन्हैया कुमार ने भीड़ को भारत विरोधी नारे लगाने के लिए उकसाया था। मामले में कश्मीरी छात्रों आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईया रसूल, बशीर भट, बशरत के खिलाफ भी आरोप पत्र दाखिल किए गए। इन सभी कश्मीरी छात्रों से भी पूछताछ की जा चुकी है, लेकिन इन्हें बिना गिरफ्तारी के चार्जशीट किया गया है। इनके खिलाफ चार्जशीट में 124A (देशद्रोह), 323, 465, 471, 143, 149, 147, 120B जैसी धाराएं लगाई गई हैं।

see this :

कन्‍हैया ने कहा

चार्जशीट ही नहीं बल्कि स्पीडी ट्रायल के तहत इस मामले को न्यायालय में चलाया जाए। वर्तमान सरकार के पास कोई मुद्दा ही नहीं बचा है। अब वर्तमान सरकार सिर्फ पाकिस्तान, मंदिर और  हिंदू-मुसलमान की बात कर रही है।  सरकार पूरी तरह डिप्रेशन के दौर में आ गई है और दोबारा सत्ता पाने के लिए वह किसी भी हद से गुजरने को तैयार है।

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*