‘जिस दिन हम जाति-धर्म से जुड़ जायेंगे कम्युनिस्ट नहीं रहेंगे’

लोकसभा चुनाव में भाजपा की ऐतिहासिक जीत और कांग्रेस की हार के चर्चे में वामपंथ कहीं गुम सा है. इस साक्षात्कार में वामपंथी नेता अतुल कुमार अंजान इसके कारणों को समझा रहे हैं.atul.anjan

वसीम अकरम

 

गरीब-किसानों की पार्टी कहे जानेवाले वाम के जनाधार कम होने के क्या कारण हैं, जबकि देश में अब भी गरीबों की ही ज्यादा संख्या है?

हमारी पार्टी गरीबों और किसानों की पार्टी है, मजदूर और हाशिये पर पड़े लोगों की पार्टी है, अल्पसंख्यकों की पार्टी है, लेकिन अब सिर्फ गरीब-गरीब कहने से ही काम नहीं चलनेवाला है. अब जरूरत है उनके भावनाओं के साथ जुड़ने की. उनके अंदर जो परिवर्तन हो रहा है, उस परिवर्तन को अगर बारीकी से हम नहीं देखेंगे, और उस आधार पर कोई ठोस रणनीति नहीं बनायेंगे, तो वे सिर्फ हमारे नाम के लिए थोड़े हमें वोट देने जायेंगे. डायनॉमिजम और डायनॉमिक्स दोनों अलग-अलग चीजें हैं. हमारे यहां जो डायनॉमिक्स में बदलाव आ रहा है, उसके लिए नये डायनॉमिजम की जरूरत है.

 तो किस तरह का होना चाहिए वह डायनॉमिजम?

मोर कनेक्ट टू मोर पीपुल.. यानी गरीबों-किसानों के साथ परस्पर जुड़ाव जरूरी है. उनके साथ सहभागिता और उनके मुद्दों पर गहरी विवेचना करने की जरूरत है. वर्षो से चली आ रही पार्टी की रस्म अदायगी को छोड़ कर उनके एहसास में रच-बस जाने का दौर है. सबसे ज्यादा जरूरी है दीर्घकालिक संघर्ष चलाना.

लेकिन ये सब तो इस चुनाव में होने चाहिए थे. तो आखिर क्यों नहीं किया आपने और आपकी पार्टी ने?

सब हो रहा था, लेकिन उसका इतना असर नहीं पड़ा. अब क्या कीजियेगा! हम लोग मूर्ख नहीं हैं. हमने पूरे आठ साल से संघर्षरत होकर पॉस्को को रोका हुआ है. ये बात और है कि इस चुनाव में उस संघर्ष का प्रतिफलन नहीं हुआ. क्योंकि संघर्ष एक अलग चीज है और चुनाव एक दूसरी चीज है. यह भी अब एक नयी परिभाषा आ गयी है. चुनाव के लिए संघर्ष आपका एक आधार बन सकता है, लेकिन चुनाव में अब जाति, धर्म और संकीर्णताओं की मूख्य भूमिका होने लगी है. धन की भूमिका तो है ही. अब इन तीनों से हम कैसे निपटें? इन तीनों का कम्यूनिस्ट पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है. जिस दिन हम इनसे जुड़ जायेंगे, उस दिन हम कम्यूनिस्ट पार्टी नहीं रह जायेंगे.

नरेंद्र मोदी देश के विकास को आंदोलन का रूप देने की बात कहते हैं. क्या लगता है आपको?

उनके भाषण बहुत अच्छे होते हैं, और उनका हाव-भाव भी बहुत ही अच्छा होता है, लेकिन उनका भाषण इल्मी कम और फिल्मी ज्यादा लगता है. क्योंकि अगर इल्मी होता तो वे तक्षशिला को पटना के तट पर न पहुंचा देते. बहरहाल, मैं इतना ही कहूंगा कि अभी उन्हें सरकार चलाना तो शुरू करने दीजिए. आगे देखेंगे. कहा जा रहा है कि तीस साल के बाद पहली बार भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला है. ऐसा कहना अटल जी की लिगेसी को किनारे करना है. आप अपनी आत्मश्लाघा में, खुद को महिमामंडित करने में उन तमाम की जड़ों को खोद रहे हैं, जिनके सहारे आप ऊपर चढ़े थे, फिर चाहे केशूभाई पटेल जी हों या पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी जी हों.

बंगाल में लगातार वाम का सिकुड़ता जनाधार, जबकि केरल और त्रिपुरा में बरकरार, ऐसा क्यों है?

यही बहस 2004 में भी चली थी कि वाम मोरचे को लोकसभा में 63 सीट कैसे मिलीं. जब हम जीत जाते हैं, तो ज्यादा गुदगुदी नहीं होती, लेकिन हार जाते हैं, तो भारत के वामपंथ-विरोधी ज्यादा सुंदर तरीके से नृत्य पेश करते हैं. कॉरपोरेट घराने के लोग, संघ के लोग, संकीर्ण सांप्रदायिक लोग, साम्राज्यवाद की वकालत करनेवाले उनके अवधूत लंगोटा बांध कर हमको गाली देने के लिए अखाड़े में उतर आते हैं. वही स्थिति अभी फिर होनेवाली है. और हार तो सबक सीखने के लिए ही होती है. हम फिर से मैदान में उतरेंगे और फिर से अपनी वैचारिक लड़ाई को आगे बढ़ायेंगे.

वामपंथी राजनीति की अब क्या संभावनाएं हैं. लोग कहते हैं कि यह सिर्फ विचारों की ही पार्टी है आप क्या सोचते हैं?

लड़ाई होगी. हम लड़ते रहे हैं और लड़ते रहेंगे. वामपंथ को इतना कमजोर मत समङिाए. हम सिर्फ विचारों की ही पार्टी नहीं, बल्कि आचार-विचार दोनों की पार्टी हैं. अगर सिर्फ विचारों की पार्टी होती तो आज भी 12-14 सीटें कैसे मिलतीं? अभी हम केरल में हैं, त्रिपुरा में हैं.

इस चुनाव में कई क्षेत्रीय दलों का सफाया हो गया. क्या इनका अस्तित्व अब खतरे में है?

मैं नहीं मानता कि छोटी और क्षेत्रीय पार्टियों का अस्तित्व इतना जल्दी खत्म हो जायेगा. क्योंकि छोटी पार्टियां ‘इब्नुल वक्त’ (हवा का रुख पहचाननेवाला) की तरह हैं. एनडीए में शामिल दो दर्जन दल इसकी मिसाल हैं. आज भी प्रतिरोध की शक्तियां अपने वैचारिक प्रतिरोध के आधार पर खड़ी हैं. वे सभी उभरेंगी और जल्द ही उभरेंगी. ज्यों-ज्यों जनता के ऊपर कठिनाइयों का बोझ बढ़ेगा, त्यों-त्यों वे आंदोलन का स्वरूप अख्तियार करेंगी. जब-जब अंतरराष्ट्रीय वित्तीय पूंजी की चोट बढ़ेगी, जितनी ही महंगाई का दंश झेलना पड़ेगा, जितना ही बेरोजगारी की समस्या का जबरदस्त छलांग उठेगा, तब-तब वामपंथ ही उभार लेगा, जो लोकतंत्र का मोरचा संभालेगा. लेकिन आज और अभी से ही वामपंथ को एक नये तरीके से सोचना होगा कि कैसे वह इस परिस्थिति से निपटे. हमें एक पंच लाइन लेकर चलना होगा कि आजादी के बाद से जितनी भी नीतियां बनीं, सबके जरिये आज तक जनता में सिर्फ दुखों का बंटवारा हुआ, लेकिन अब यह जनता को ठानना होगा कि आइए हम सब संघर्ष करें, ताकि हमारे बीच सुखों का बंटवारा हो सके.

आपने कहा कि संघर्ष और चुनाव दो अलग-अलग चीजें हैं. कॉरपोरेट के मौजूदा दौर में वाम के संघर्ष का स्वरूप क्या होगा?

मौजूदा दौर में चुनाव आम आदमी का नहीं, बल्कि कॉरपोरेट घरानों का चुनाव है. चुनाव-प्रचार पर, डिजिटल-प्रचार पर, सोशल मीडिया-प्रचार पर यहां तक कि स्टेज बनाने तक पर कॉरपोरेटी दखल है, जिसमें हम पिछड़ गये. हमने इन सब चीजों का इस्तेमाल ही नहीं किया. आधुनिक प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने से हम विरक्त रहे. लेकिन अब यह करना पड़ेगा.

प्रभात खबर से साभार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*