जीपीएस आधारित समय पर देश की निर्भरता समाप्‍त

अंतरिक्ष तथा रक्षा जैसे रणनीतिक क्षे  त्र के लिए ग्लोबल पॉजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) आधारित समय पर देश की निर्भरता अब समाप्त हो गयी है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और राष्ट्रीय भौतिकी प्रयोगशाला (एनपीएल) ने आज एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया है, जिसके तहत सभी सरकारी विभागों तथा मंत्रालयों को इंडियन रीजनल नेविगेशनल सेटेलाइट सिस्टम (आईआरएनएसएस) के जरिये भारत का अपना समय उपलब्ध कराया जायेगा। 


अंतरिक्ष विभाग के मंत्री जितेन्द्र सिंह और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन की मौजूदगी में एनपीएल के निदेशक डॉ. दिनेश के. असवाल और इसरो के टेलीमिट्री ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क के निदेशक वी.वी. श्रीनिवासन ने सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये।
एनपीएल उन चुनिंदा अंतरराष्ट्रीय प्रयोगशालाओं में शामिल है, जो अंतरराष्ट्रीय परमाणु घड़ी से जुड़ा हुआ है। इसरो अब तक अमेरिकी रक्षा मंत्रालय द्वारा संचालित जीपीएस के समय से अपने समय को मिलाकर काम करता रहा है।
परियोजना से जुड़े इसरो के एक वैज्ञानिक ने बताया कि अमेरिका कभी भी दुनिया के जिस हिस्से में चाहे जीपीएस सेवा बंद कर सकता है। उसने खाड़ी युद्ध के समय कुछ देशों के लिए जीपीएस सेवा बंद कर दी थी तथा कुछ अन्य देशों को दिये जाने आँकड़ों में गड़बड़ कर उन्हें कमजोर किया था । इसलिए, भारत के लिए अपनी समय प्रणाली होनी महत्त्वपूर्ण है। जीपीएस की चुनिंदा उपलब्धतता की नीति को वर्ष 2000 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्विंटन ने समाप्त किया था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*