जी और नीट के बदले पैटर्न पर सेमिनार आयोजित

आईआईटी जी और पीएमटी नीट के बदले पैटर्न के बारे में उतपन्न भ्रम को दूर करने के उद्देश्य से एलिट इंस्टिच्यूट ने छात्रों में जागरूकता लाने के लिए मुजफ्फरपुर में सेमिनार आयोजित किया.310828_450314248382973_610027189_n

इस अवसर पर पार्क होटल में आयोजित सेमिनार में इंस्टीच्यूट के निदेशक अमरदीप झा गौतम खुद मौजूद थे. उन्होंने इस अवसर पर मुजफ्फरपुर के एक सौ से अधिक छात्रों को संबंधित करते हुए आईआईटी जी और पीएमटी नीट के संबंध में जानकारी दी.

एलिट इंस्टिच्यूट के निदेशक गौतम ने बताया कि आईआईटी (जी) और पीएमटी ( नीट) के बदले पैटर्न में 12 वी कक्षा के रिजल्ट को महत्वपूर्ण बना दिया गया है. इसका मतलब यह हुआ कि अब छात्रों को मात्र प्रतियोगी परीक्षा पर ध्यान केंद्रित करने के बजाये 12 वीं के रिजल्ट पर भी ध्यान देना होगा.

उन्होंने छात्रों को समझाया कि आईआईटी या मेडिकल में प्रवेश पाने के लिए यह अनिवार्य कर दिया गया है कि 12 वीं के प्राप्तांक का 40 प्रतिशत और प्रतियोगी परीक्षा का 60 प्रतिशत अंतिम चयन का आधार बना दिया गया है. ऐसे में छात्रों को अपनी तैयारी भी इसी बात को ध्याम में रख कर करनी होगी.

गोतम ने इस अवसर पर छात्रों के प्रश्नों पर विस्तार से चर्चा की. सेमिनार में मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, मोतिहारी और समस्तीपुर के छात्र मौजूद थे. उन्होंने जी और नीट की प्रतियोगी परीक्षाओं के बदले पैटर्न के संबंध में अनेक सवाल पूछे जिनके जवाब अमरदीप झ गौतम ने बखूबी दिये.

सेमिनार में गौतम ने छात्रों को ऊर्जा प्रबंधन की तकनीक, योग्यता के अधिकतम उपोयग और कामयाबी हासलि करने के तरीकों पर अपनी बात भी रखी.

एलिट इंस्टिच्यूट बिहार के अनेक जिलों में इस तरह के सेमिनार के आयोजन का लक्ष्य रखा है ताकि आईआईटी जी और पीएमटी नीट के बदले पैटर्न के संबंध में छात्रों में उत्पन्न भ्रम को दूर किया जा सके तथा उन्हें उचित मार्गदर्शन दिया जा सके. इंस्टिच्यूट की तरफ से इस सिरीज का अगला सेमिनार भागलपुर में आगामी 12 मई को भागलपुर में आयोजित किया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*