जेटली ने ईमानदारी से स्वीकारा: GST लागू करने की शिक्षा वामपंथी असीम दास गुप्ता से मिली

वन टैक्स वन नेशन का सपना पूरा करने में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भाजपा को श्रेय नहीं देते हुए स्वीकार किया है कि GST लागू करने की शिक्षा उन्हें पश्चिम बंगाल के तत्कालीन वित्त मंत्री असीम दास गुप्ता से मिली. गुप्ता जीएसटी काउंसिल के पहले अध्यक्ष थे.

देश में जीएसटी लागू करने के प्रयास विगत 17 वर्षों  से किये जा रहे थे.

शुक्रवार-शनिवार दरमियानी रात जेटली ने संसद के सेंट्रल हॉल में स्पीच के दौरान किया. उन्हें जीएसटी की शिक्षा असीम दासगुप्ता से मिली थी.

उन्होंने कहा- जीएसटी को लेकर बसे अहम सिफारिश थी जीएसटी काउंसिल की रचना.  उन्होंने कहा कि इस कमेटी में सबसे अहम योगदान असीम दासगुप्ता का रहा. उन्होंने कहा- मुझे पहली शिक्षा उनसे (असीम) ही मिली थी. इसलिए उनका आभार.

पश्चिम बंगाल में जब वाममोर्चा की सरकार थी उस वक्त बुद्धदेव भट्टाचार्य की सरकार में असीम दासगुप्ता राज्य के वित्त मंत्री थी.

गौरतलब है कि देश भर में बीती आधी रात से एक देश एक कर के तहत जीएसटी लागू हो गया है. इसके तहत अब 12 से भी अधिक तरह के अनेक करों के बदल सिर्फ एक कर प्रणाली होगी. इसके कारण बहुत सारी सेवायें और वस्तुएं उपभुक्ताओं को महंगी मिलेंगी जबकि बहुत सारी सेवायें व वस्तुए सस्ती भी हो सकती हैं.

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*