जेपी सेनानियों की मृत्यु के बाद उनकी पत्नियों को पेंशन देने की हो रही है तैयारी

जे0पी0 सम्मान योजना से संबंधित सलाहकार पर्षद के अध्यक्ष-सह-उपमुख्यमंत्री की अध्यक्षता में अधिवेशन भवन, पटना में पहली बार राज्य के सभी जिलों में नामित त्रि-सदस्यीय समिति के सदस्यों की बैठक आयोजित की गई।

 

इस अवसर पर सलाहकार पर्षद के सदस्य-सह-मंत्री, जल संसाधन व योजना एवं विकास विभाग श्री राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह, गृह विभाग के प्रधान सचिव श्री आमिर सुबहानी एवं अन्य पदाधिकारीगण भी उपस्थित थे।

बैठक को सम्बोधित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन पर राज्य सरकार प्रतिवर्ष 25 करोड़ रू0 खर्च कर रही है तथा इसके लागू होने से लेकर वर्ष 2017-18 तक 121 करोड़ रू0 व्यय हुए हैं। फिलहाल 2677 जे0 पी0 सेनानियों को पेंशन दिया जा रहा है, जिसमें 10 हजार रू0 प्राप्त करने वाले 961 एवं 5 हजार रू0 प्राप्त करने वाले 1716 सेनानी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि जे0पी0 सेनानियों से उनकी पत्नी का फोटोग्राफ एवं अन्य दस्तावेजों को पूर्व में ही प्राप्त कर लिया जायेगा ताकि किसी सेनानी की मृत्यु होने की स्थिति में उनकी विधवा को इस योजना का लाभ प्राप्त करने में कोई कठिनाई नहीं हो। जे0पी0 सम्मान योजना से संबंधित बेबसाइट को बेहतर बनाया जायेगा जिस पर वे अपना सुझाव, शिकायत या सूचना भेज सकेंगे।

बैठक में त्रि-सदस्यीय समिति के सदस्यों ने चिकित्सकीय सुविधा से संबंधित प्रक्रियाओं को सरलीकृत करने, राज्य के सभी जिलों में नामित त्रिस्तरीय समिति का पुनर्गठन कर उन्हें सचिवालीय सुविधा प्रदान करने, बी.एस.आर.टी.सी. की बसों में यात्रा हेतु स्थायी पास देने, यात्रा के दौरान सहयात्री की सुविधा प्रदान करने, पेंशन राशि पर आयकर से छूट, स्थानीय स्तर पर जीवित प्रमाण पत्र बनाने, पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप मोड में चलने वाली बसों में भी यात्रा करने की सुविधा, जय प्रकाश नारायण की जीवनी एवं उनके नेतृत्व में किये गये आन्दोलन को स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम में शामिल करने, जिलों में आयोजित होने वाले राजकीय समारोहों में भी आमंत्रित करने आदि महत्त्वपूर्ण सुझाव दिये। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार जे0 पी0 सेनानियों के सम्मान के प्रति संवेदनशील है और उनके सुझावों पर गंभीरतापूर्वक विचार करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*