डीआईजी पुत्र के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए डीजीपी सक्रिय

पूर्णिया डीआईजी बीएस मीणा के पुत्र की गलतफहमी में हुई हत्या. इस मामले में बिहार व सिक्किम पुलिस आपस में सम्पर्क में है हत्यारे रईसज़ादे जल्द ही शिकंजे में होंगे.

सिक्किम के एसपी मनोज तिवारी

सिक्किम के एसपी मनोज तिवारी

विनायक विजेता

बिहार कैडर के 1996 बैच के आईपीएस व पूर्णिया के डीआईजी बच्चू सिंह मीणा के बीस वर्षीय इकलौते बेटे रक्षित मीणा की सिक्किम के गंगटौक में हुई हत्या मामले में सिक्किम पुलिस काफी तत्परता दिखा रही है। रक्षित की हत्या शनिवार की देर रात गैंगटौक के ही एक नाइट क्लब के बाहर स्थानीय और रईस बाप के बिगडैल बेटों ने पीट-पीटकर कर दी थी।

गौरतलब है कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए सात लोगों में तीन छात्र सिक्किम में पदस्थापित बडे अधिकारी के पुत्र हैं। पुलिस ने नाईट क्लब के दो निजी सुरक्षा कर्मियों को भी गिरफ्तार किया है। आरोपितों को कडी से कडी सजा दिलाने के लिए वहां की पुलिस सक्रिय हो गई है। मूल रुप से उत्तर प्रदेश के निवासी और 2003 बैच के आईपीएस मनोज तिवारी खुद पूरे मामले की मॉनेटरिंग कर रहे हैं।

मनोज तिवारी ईस्ट सिक् िकम जिले के एसपी भी हैं जिनके क्षेत्राधिकार में यह वारदात हुई है। इसके अलावा पटना के पूर्व एसएसपी और बाद में सेंट्रल रेंज के डीआईजी रहे विनीत विनायक भी सारे मामले पर नजर रख रहे हैं। मूल रुप से बिहार के ही निवासी विनीत विनायक फिलवक्त सिक्किम में ही आईजीपी, आर्म्स पुलिस, सीआईडी के पद पर तैनात है और बच्चू सिंह मीणा के गहरे मित्र भी हैं।

जानकारी के अनुसार सिक्किम पुलिस ने रक्षित हत्या मामले में आठ चश्मदीद गवाह तैयार किए हैं जिनका गैंगटौक की अदालत में धारा 164 के तहत बयान कराने की तैयारी की जा रही है। इसके अलावा हत्या के आरोप में जेल भेजे गए आरोपितों की टीआई परेड भी कराने की तैयारी चल रही है। सिक्किम के एक पुलिस अधिकारी के अनुसार इस मामले में सिक्किम पुलिस कहीं ऐसा चूक करना नहीं चाहती जिससे आरोपितों को किसी तरह का लाभ मिल सके। पटना के सीनियर एसपी रहे और बाद में पूर्णिया के डीआईजी बनाए गए ईमानदार और कर्मठ आईपीएस अधिकारी बीएस मीणा के इकलौते बेटे की बेरहमी से हुई से बिहार और सिक्किम पुलिस के अधिकारियों के साथ बिहार की जनता भी हतप्रभ है।

सूत्रों के अनुसार बिहार के डीजीपी अभ्यानंद ने भी इस मामले में सिक्किम के वरीय पुलिस अधिकारियों से बात कर हत्यारों के खिलाफ पुख्ता सबूत और साक्ष्य जुटाने और उन्हें कडी से कडी सजा दिलवाने का आग्रह किया है। इधर सोशल नेटवर्किंग साइट ‘फेसबुक’ पर जैसे ही बच्चू सिंह मीणा के इकलौते बेटे की निर्मम हत्या की खबर आयी बिहार सहित देश के विभिन्न हिस्सों से हजारों लोगों ने ‘फेसबुक’ के माध्यम से इस घटना पर गहरा दुख प्रकट करते हुए बीएस मीणा से अपना धैर्य और संबल बनाए रखने की अपील करते हुए आरोपितों के खिलाफ सख्त और कडी सजा की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*