तीसरी महिला जो बनीं भारत की विदेश सचिव

सुजाता सिंह तीसरी महिला हैं जिन्हें भारत की विदेश सचिव बनाया गया है. सुजाता ने यह पद एक अगस्त को ग्रहण कर लिया है. उन्होंने राजन मुथाई की जगह लिया है.

सुजाता और राजन मुथाई

सुजाता और राजन मुथाई

सुजाता के पहले चोकिला अय्यर और निरुपमा राव ने विदेश सचिव जैसे महत्वपूर्ण पद पर काम करने वाली अन्य दो महिला अधिकारी रही हैं.

सुजाता 1976 बैच की आईएफएस अधिकारी हैं और वह इससे पहले जर्मनी में भारत की रजदूत थीं. सुजाता दो साल के लिय इस पद पर रहेंगी.

सुजाता सिंह इंटेलिजेंस ब्यूरो( आईबी) के पूर्व निदेशक टीवी राजेश्वर की बेटी हैं. राजेश्वर की कांग्रेस से निकटता के किस्से काफी मशहूर रहे हैं. वह इंदिरागांधी और राजीव गांधी के दौर में आईबी के प्रमुख हुआ करते थे. मनमोहन सरकार ने उन्हें उत्तर प्रदेश का राजपाल बना दिया था. उनकी पति संजय सिंह भी नौकरशाही हैं.

सुजाता की पढ़ाई लिखाई लेडी श्री राम कॉलेज और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से हुई है. उन्होंने 1976 में विदेश सेवा ज्वाइन किया था. 1954 में जन्मी सुजाता विदेश सचिव के तौर पर दो साल तक सेवा दे सकेंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*