तेजस्वी के दिल की बात: ‘संघ एक विषैला परिवार व भाजपा देश की सबसे बड़ी झूठी व वंशवादी पार्टी’

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने पर धमाकेदार हम संघ व भाजपा ला बोलते हुए कहा है कि संघ एक ऐसा विषैला परिवार है जिसका एक -एक फल समाजिक सद्भाव के लिए जहरीला है जबकि भाजपा देश की सबसे बड़ी वंशवादी, झूठी और गोयबल्स की भक्त पार्टी है.tejaswi.naukarshahi

तेजस्वी ने दिल की बात श्रृंखला में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि राजद को वंशवादी पार्टी कहने वाली भाजपा को मैंने चुनौती दी थी कि अगर वह वंशवाद खत्म कर दे तो मैं राजनीति से सनंयास ले लूंगा. तेजस्वी ने भाजपा के परिववारवाद की लम्बी लिस्ट गिनाते हुए कहा कि दोहरे चाल, चरित्र और चेहरे वाली पार्टी बीजेपी अपने पल्लू में नहीं झाँकती जिसमें अनगिनत परिवार जैसे सिंधिया परिवार, कल्याण परिवार, राजनाथ परिवार, बहुगुणा परिवार, आर्य परिवार, मुंडे परिवार, महाजन परिवार, धूमल परिवार, वर्मा परिवार, गोयल परिवार, मिश्र परिवार, टण्डन परिवार, रमण परिवार, येदुर्रप्पा परिवार, बेल्लारी परिवार, जसवंत परिवार, सिन्हा परिवार, ठाकुर परिवार, चौबे परिवार इत्यादि अनेकों अनेक परिवार  हैं। इनका संकीर्ण लक्ष्य तो बस दूसरों के जनसमर्थन को देखकर, किसी भी विषय पर विवाद खड़ा कर हंगामा करना और कराना होता है। ताकि मूल मुद्दों से ध्यान भटकाया जा सके।

 

उन्होंने कहा कि  भाजपाई गौबेल्स के इतने बड़े भक्त हैं कि उसकी कही हर बात को ब्रह्मवाक्य मान, पूरी निष्ठा से उसका अनुकरण करते हैं। भाजपा के डीएनए में, आचरण में, व्यवहार में, नियति में, कण-कण में दोहरापन समाया हुआ है। अपने वादों और नारों की कलई ये स्वयं खोलते है। गौबेल्स की भाँति भाजपा का मानना है कि प्रोपगेंडा, झूठ को सच बता निरन्तर दोहराने, चोरी कर सीनाजोरी करने से अपने हर दोष को छुपाया जा सकता है, हर झूठ को सच साबित किया जा सकता है और ऐसे अनुयायियों की उग्र सेना खड़ी की जा सकती है जो बिना सवाल किए हर बात में हाँ में हाँ मिलाने के लिए प्रोग्राम्ड हो जाते हैं।

 

वैसे तो भ्रष्टाचार, सामाजिक सद्भाव, विकास आधारित राजनीति, राजनीति में सदाचार, वंशवाद इत्यादि हर विषय पर भाजपा के दोहरे रवैये से भरे आचरण के उदाहरण से सभी भली भाँति परिचित हैं। तेजस्वी ने कहा कि जब भाजपा ने हमें वंशवाद पर घेरना चाहा तो मैंने भी उन्हें कड़े शब्दों में दो टूक कह दिया था कि आप शपथ पत्र दे दें कि आप किसी भी नेता के किसी भी सम्बन्धी को नीति को रेखांकितपार्टी में, किसी भी हैसियत में शामिल नहीं करेंगे तो मैं भी राजनीति छोड़ दूँगा। भाजपा नेताओं ने मेरी चुनौती को ना तो स्वीकार किया और ना ही सीधे तौर पर उन्हें मेरी बात पर जवाब देते बना। तो लगे इधर उधर की हाँकने और बात छीलने!जब इनसे तथ्यों के आधार पर बात की जाए तो अनाप शनाप दलील देने लगते हैं। मैंने उन्हें बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान यह चुनौती दी थी। आज तक जवाब नहीं आया। उस वक़्त परिवारवाद के मुद्दे पर उछलकूद करने वाले भाजपाई उस खुली चुनौती के बाद ऐसे बिल में छिपे कि आजतक बाहर नहीं निकले है।

अब 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव भी आ गए। पर भाजपा में वंशवाद का मुद्दा आज भी जस का तस बना है। पर इसके बावजूद भी ये दूसरे पर अँगुली उठाने से बाज नहीं आ रहे हैं। आलम यह है कि ऐसे लगभग सैंकड़ो भाजपा नेता हैं जो अपने बच्चों को टिकट दिलवाने के होड़ में लगे हैं।

संघ परिवार, विषैला परिवार

 

तेजस्वी ने कहा कि  इस देश में सबसे ज्यादा परिवारवाद को बढ़ावा देने वाला परिवार तो भाजपा का जन्मदाता “आरएसएस” परिवार है। इस परिवार मात्र जुड़ने से भाजपा के लिए कोई भी व्यक्ति या उम्मीदवार तुरन्त योग्य, कर्मठ, देशप्रेमी और अनुभवी कहलाने लगता है। संघ परिवार वह विषैला वृक्ष है जिससे आने वाला हर फल समाज और देश के सद्भाव के लिए विषैला ही होता है। ये लोगों को उनके कर्म से नहीं, बल्कि जन्म के आधार पर आँकते हैं। ये वही लोग हैं जो सदियों से अन्यायपूर्ण गैर-बराबरी की व्यवस्था के सबसे बड़े पैरोकार रहे हैं।

उपमुख्यमंत्रई ने कहा कि   वर्ण व्यवस्था को बढ़ावा देकर इन लोगों जैसी मानसिकता वालों ने सदियों से यह सुनिश्चित किया कि अवसरों, संसाधन और उच्च पदों पर मुठ्ठीभर लोगों का एकाधिकार बना रहे। यह विषैला परिवार युवा पीढ़ी की खुली सोच को संकीर्ण और साम्प्रदायिक बनाने का निरन्तर षड्यंत्र रच रहा है।

 

About Editor

One comment

  1. BJP&RSS became more dangerous for majority Hindus specialy scheduled and OBC casts and national integrity.Mnnde and many other families are shame for nation.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*