तेज्सवी से हार्दिक का मिलन बनी कचर्मी वोट के लिये नीतीश की उलझन

तेज्सवी से हार्दिक का मिलन कुर्मी वोट के लिये नीतीश की उलझन बन गयी है।

पटेल ने आज शाम नेता प्रतिपक्ष के सरकारी आवास पर आ कर उनसे मुलाकात की तथा सामाजिक न्याय एवं एकता विषय पर लगभग एक घंटे तक बातें की।

।बाद मे पत्रकारों से वार्ता करते हुए नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि श्री हार्दिक पटेल जी का मैं बिहार की धरती पर हार्दिक सवागत करता हूँ।

 

उनसे मेरा अनुरोध होगा की वे देश की स्थिति को ध्यान मे रख कर बार बार बिहार आये।बिहार और गुजरात का पुराना और मधुर संबंध रहा है।महात्मा गांघी जी की जन्म भूमि गुजरात रही है जबकि बिहार उनकी कर्मभूमि रही है।बिहार मे उन्होंने आंदोलन किया, बिहार ने उन्हें महात्मा बनाया।उन्होंने देशको एकता और प्रेम का संदेश दिया।

 

हार्दिक जी युवा नेता हैं, उन्होंने बहुत कम उम्र मे सामाजिक न्याय और एकता के लिये बड़ा आंदोलन किया, गुजरात विधान सभा चुनाव को मजबूती से लड़ा।भाजपा को चना चबवाया।हम उनके इस साहस की सराहना करते हैं और बधाई देते हैं।सामाजिक न्याय ,किसानों और युवाओं की समस्याओं के समाधान के लिये युवाओं को वे राजनीतिक रूप से जागरूक कर रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा की देश के किसी भी हिस्से मे अन्याय, ज़ुल्म या सामाजिक नाइंसाफी होती है तो हम युवा पूरी ताकत से लड़ेंगे और लोगों को उनका हक और न्याय दिलाएंगे।हमलोग सामाजिक न्याय के साथ साथ आर्थिक न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ रहे हैं।

श्री हार्दिक पटेल ने कहा कि हम यहाँ सामाजिक न्याय और एकता के मुद्दे पर विचार करने आये हैं।हमलोगों के बीच जो मुलाकात आज हुई है वह शिस्टाचार मुलाकात थी।इस अवसर पर पुर्वमंत्री श्री आलोक मेहता, विधायक यथा श्री अख़्तर उल ईमान साहिन, श्री सयैद अबु दुजाना सहित कई वरिष्ट नेता उपस्थित थे।

श्री हार्दिक पटेल ने10 सर्कुलर रोड जा कर पूर्वमुख्यमंत्री श्रीमती राबड़ी देवी से मुलाकात की और उनका आशिर्वाद लिया।6-2018:युवा नेता श्री हार्दिक पटेल ने आज शाम नेता प्रतिपक्ष के सरकारी आवास पर आ कर उनसे मुलाकात की तथा सामाजिक न्याय एवं एकता विषय पर लगभग एक घंटे तक बातें की।बाद मे पत्रकारों से वार्ता करते हुए नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि श्री हार्दिक पटेल जी का मैं बिहार की धरती पर हार्दिक सवागत करता हूँ।उनसे मेरा अनुरोध होगा की वे देश की स्थिति को ध्यान मे रख कर बार बार बिहार आये।बिहार और गुजरात का पुराना और मधुर संबंध रहा है।महात्मा गांघी जी की जन्म भूमि गुजरात रही है जबकि बिहार उनकी कर्मभूमि रही है।बिहार मे उन्होंने आंदोलन किया, बिहार ने उन्हें महात्मा बनाया।उन्होंने देशको एकता और प्रेम का संदेश दिया।हार्दिक जी युवा नेता हैं, उन्होंने बहुत कम उम्र मे सामाजिक न्याय और एकता के लिये बड़ा आंदोलन किया, गुजरात विधान सभा चुनाव को मजबूती से लड़ा।भाजपा को चना चबवाया।हम उनके इस साहस की सराहना करते हैं और बधाई देते हैं।सामाजिक न्याय ,किसानों और युवाओं की समस्याओं के समाधान के लिये युवाओं को वे राजनीतिक रूप से जागरूक कर रहे हैं।हार्दिक पटेल जी का मैं बिहार की पवित्र धरती पर सवागत करता हूँ-

गौरतलब है कि पहले पटेल की नजदीकी चर्चा में थी पर अब पटेल राजद के करीबी बढ़ा रहे हैं जिससे नीतीश की उलझन बढ़ रही है।