दशक में सबसे कम रोजगार 2015 में सृजित हुआ लेकिन झूठ का डंका पीट रही मोदी सरकार

वरिष्ठ समाजवादी नेता शिवानंद तिवारी ने लेबर ब्यूरो के हवाले से कहा है कि 2015 में सबसे कम रोजगार सृजित हुआ जबकि मोदी सरकार  झूठा डंका पीट कर अपनी खामी छुपा रही है.shivanand.tiwari

श्री तिवारी ने अपने फेसबुक अकाउंट पर  कहा कि पिछले  दो वर्षों की अपनी असफलता को छिपाने के लिए मोदी सरकार विकास का झूठा डंका पीट रही है। केंद्र सरकार के लिए सबसे गंभीर चुनौती बेरोज़गारी की समस्या है।

लेकिन सरकार इस समस्या को लेकर अभी तक अंधेरे में दीवार ही टटोल रही है।
इस सरकार ने सबसे ज्यादा नौजवानों को ठगा है। पिछले दशक मे 2015 सबसे कम रोज़गार पैदा करने वाला वर्ष रहा है। लेबर ब्यूरो के मुताबिक़ इस वर्ष सिर्फ़ एक लाख छतीस हज़ार रोज़गार का ही सृजन हो पाया।जबकि हर महीने दस लाख युवा रोज़गार की तलाश मे बाज़ार में आ रहे हैं।

 

हरियाणा के जाटों, गुजरात के पटेलों या आँध्र के कापुओं का आरक्षण के लिए आंदोलन दरअसल बेरोज़गारी की वजह से उपजी हताशा और विक्षोभ का ही परिणाम है।
सरकारें मुँह से नहीं अपने काम से बोला करती हैं। दो वर्षों में मोदी सरकार ने बोलने वाला कोई काम नहीं किया है। इसीलिए सरकार के लोग देश भर में घूम-घूम कर विकास का शोर मचाकर ध्वनि प्रदूषण फैला रहे हैं। हकीकत में मोदी सरकार चोटी और जनेऊ धारियों की जमात है और देश में उन्हीं का राज क़ायम करना चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*