दुर्गा निलंबन: हवाबाजी थी साम्प्रदायिक तनाव की खबर

आईएएस दुर्गाशक्ति नागपाल के निलंबन के पीछे दिये गये तर्क की हवा निक गयी है.अखिलेश सरकार ने कहा था कि दुर्गा के फैसले के कारण साम्प्रदायिक तनाव का खतरा था, जबकि ऐसा कुछ नहीं था.akhilesh

टाइम्स आफ इंडिया की खबरों में बताया गया है कि गौतम बुद्ध नगर में स्‍थानीय पुलिस ने सोमवार को इस दलील को दरकिनार करते हुए साफ किया कि इलाके में ऐसा कोई सांप्रदायिक तनाव नहीं था. कई टीवी चैनल और न्यूजसइट ने अखिलेश यादव के उस फरमान को प्रमुखता से उठाया था कि दुर्गाशक्ति नागपाल ने एक मस्जिद की विवादित दीवार को गिराने का आदेश दिया था जिसके कारण साम्प्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा हो गय थी.

जबकि स्थानीय थाने ने इस बात से साफ इनकार कर दिया है.

IAS को सस्पेंड करने वाले अखिलेश मुस्लिम हितैषी या मदरसा ध्वस्त करने वाले अखिलेश?

पुलिस के दावों की विश्वसनीयता इस बात से भी बढ़ती है कि राज्य सरकार को शनिवार को इस इलाके से सांप्रदायिक तनाव से जुड़ी कोई फील्ड रिपोर्ट नहीं मिली है.
गृह मंत्रालय के कुछ सूत्रों के मुताबिक किसी भी अधिकारी के खिलाफ इस तरह के गंभीर फैसलों की पहल फील्ड रिपोर्ट के आधार पर की जाती है.

रबूपुरा थाने के सीनियर सब इंस्पेक्टर अजय कुमार ने कहा, ‘ऐसा कोई तनाव नहीं था. आप उन पत्रकारों से पूछ सकते हैं, जो गौतम बुद्ध नगर में मौजूद थे. मेरे पास इस बात पर यकीन करने की पर्याप्त वजह है कि किसी को रविवार रात तक इस तरह का धार्मिक स्‍थल की दीवार गिरने के बारे में पता ही नहीं था.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*