दो आइएएस अफसरों पर हो सकती है कानूनी कार्रवाई

भ्रष्ट अधिकारियों की संपत्ति जब्त करने का कानून लागू होने के बावजूद बिहार के नौकरशाहों के भ्रष्टाचार के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. नया मामला दो आईएएस अधिकारियों का है जिनके खिलाफ कभी भी कार्रवाई हो सकती है. पूरे मामले की जानकारी दे रहे हैं हमारे उत्तर बिहार संवाददाता पंकज कुमार.

दरंभगा के डीएम नर्मदेश्व लाल

भ्रष्टाचार के विभिन्न मामलों में बिहार के दो आईएएस अधिकारियों पर कानूनी कार्रवाई की तलवार लटक गयी है. पशुपालन निदेशक राजेश कुमार और १९९८८ बैच के आईएएस अधिकारी व दरभंगा के डीएम नर्मदेश्वर लाल पर भरी आर्थिक अनियमितता के आरोप हैं.

इन मामलों में इनसे स्पष्टीकरण मांगने पर एक आईएस की तरफ से उपलब्ध कराया गया स्पष्टीकरण संतोषप्रद नहीं हैं, जबकि एक ने निर्घारित समय सीमा के बाद भी स्पष्टीकरण नही दिया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दोनो अधिकारियों पर कार्रवाई के लिए फाइल को सामान्य प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री सचिवालय भेज दिया है. सारे तथ्यों का अवलोकन कर इन पर कार्रवाई करने का अंतिम फैसला मुख्यमंत्री स्तर से लिया जाएगा.हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि ये कार्रवाई कब तक होगी.

दरंभगा के वर्तमान डीएम नर्मदेश्व लाल और पशुपालन निदेशक राजेश कुमार से आरोपों के बाबत जवाब तलब किए गए थे.

नर्मदेश्वर लाल जब मोतिहारी में जिलाघिकारी के पद पर थे, तब जननी एवं बाल सुरक्षा योजना मद में 18,000 लोगों का बैकलाग प्रतिवेदित करते हुए इसके भुगतान के लिए 3.60 करोड़ रूपए की मांग की थी.

इसके अलावा श्री लाल पर गंभीर वित्तीय अनियमितता और अपने दायित्वों के निर्वहन में लापरवाही और शिथिलता का आरोप है.

लाल से इस मामले के मद्देनजर विभागीय कार्यवाही चलाने के लिए इनसे बचाव बयान की मांग की गई थी.

कांग्रेस नेता मुमताज अहमद का कहना है कि मोतिहारी के जिला अधिकारी रहने के दौरान श्री लाल ने कई योजना मद का पैसा परिवर्तित कर दूसरे योजना मद में खर्च कर दिया था. जबकि फंड डायवर्ट करने का फैसला सरकार के स्तर पर ही लिया जा सकता है.

इन सभी मामलों की गहरी जानकारी रखने वाले रंगकर्मी गुडडू मिश्रा कहते हैं लाल ने पता नहीं नासमझी बार ये काम कैसे कर दिया. जबकी वह एक अछे अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं.

अब चूँकि इस मामले में उनहोंने ग़लती कर दी है तो उन्हें कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहना पड़ेगा.
आर्थिक अनियमितता के आरोपों पर ये दोनों नौकरशाह अपना मुंह खोलने से परहेज़ कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*