नरेंद्र सिंह के खिलाफ फेसबुक पर अमर्यादित टिप्पणी से मचा कोहराम

मांझी सरकार बचाने में संकट मोचक की भूमिका निभा रहे नरेंद्र सिंह के खिलाफ नीतीश गट के नेता इ. शंभुशरण के फेसबुक वॉल पर  अमर्यादित टिप्पणी से बवाल मचा है. अब उन्हें अदालत में घसीटने की तैयारी चल रही है.

मांझी को संकटों से उबारने में लगे हैं नरेंद्र सिंह

मांझी को संकटों से उबारने में लगे हैं नरेंद्र सिंह

मुकेश कुमार जमुई से

इ. शंभु शरण के फेसबुक वॉल पर यह टिप्पणी 8 फरवरी को 8.56 मिनट पर की गयी जिसमें उनके लिए गंदी गालियों का इस्तेमाल किया गया है. हालांकि बवाल होने के बाद यह टिप्पणी उनके वॉल से गायब पायी गयी.

इ शंभु शरण जद यू के पूर्व महासचिव रहे हैं और वह नीतीश के करीबियों में से माने जाते हैं.

मांझी सरकार और नीतीश कुमार के गुट के बीच सरकार बनाने की खीचा-तानी को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चरम पर है ।इस बीच राजनीतिक बयानबाजी का दौर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में छाया हुआ है। जमुई के राजनीतिक गलियारे में मंत्री नरेंद्र सिंह के विरुद्ध जदयू नेता ई. शम्भुशरण ने अपने फेसबुक पर अपने दिल की भड़ास निकालने के क्रम में इतनी अमर्यादित भाषा का प्रयोग कर रखा है जिससे नरेंद्र सिंह के समर्थको में भारी रोष व्याप्त होता जा रहा है।

जदयू नेता लाल सुरेश सिंह, बच्चन सिंह, भरत राम, किष्टो तांती आदि ने इसकी कड़ी भर्त्सना करते हुए कहा है कि लोकतंत्र में अपनी बात को रखने और कहने का अधिकार सभी को है लेकिन सरकार के मंत्री नरेंद्र सिंह के विरुद्ध गाली देते हुए आलोचना करना सर्वथा अनुचित है। जदयू नेता लाल सुरेश सिंह और बच्चन सिंह ने सामुहिक रूप से कहा की मंत्री नरेंद्र सिंह के के खिलाफ रोज फेसबुक पर ई.शम्भुशरण बिष वमन करने में में मर्यादा को पार करते नजर आ रहे है। नरेंद्र सिंह हमारे सर्वमान्य नेता है और रहेंगे। चकाई विधायक सुमित कुमार भी प्रत्येक दिन फेसबुक पर डायरी और समीक्षा लिखते है।लेकिन क्या उन्होंने कभी किसी को गाली दी है? अमर्यादित व्यक्ति समाज का शुभचिंतक नहीं विनाशक ही हो सकता है। फिलवक्त जमुई में मंत्री नरेंद्र सिंह के विरुद्ध अपमानजनक बयान को लेकर उनके समर्थको में भारी रोष व्याप्त है।

शम्भुशरण के फेसबुक पर मंत्री नरेंद्र सिंह के बिरुद्ध अपमानजनक और असंसदीय भाषा का प्रयोग करने से भारी रोष तो है ही अब इस मामले को न्यायालय में ले जाने की तैयारी उनके समर्थक कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*