नीतीश की प्रशंसा में झूम उठे मोदी, कहा शराबबंदी से समाज परिवर्तन की आपकी पहल बनेगी देश की प्रेरणा

पीएम मोदी ने 350 वे प्रकाशोत्सव पर नीतीश की तारीफ करते हुए कहा कि शराबबंदी से समाज परिवर्तन का आपने जो जोखिम उठाया है वह सम्पूर्ण देश के लिए प्रेरणा बनेगा. मोदी ने कहा कि समाज परिवर्तन का काम सबसे बड़ा जोखिम भरा होता है और नीतीश जी ने यह जोखिम उठा कर साहस का काम किया है.

प्रकाशोत्सव में मोदी, नीतीश प्रकाश सिंह बादल

प्रकाशोत्सव में मोदी, नीतीश प्रकाश सिंह बादल

इस से पहले नीतीश कुमार ने अपने संबंधन में पीएम मोदी की तरफ मुखातिब हो के कहा था कि गुजरात राज्य में वर्षों से शराबबंदी लागू है. मोदी जी भी इस राज्य के 12 वर्षों तक मुख्यमंत्री रहे और शराबबंदी को लागू किये रखा.

 

नीतीश ने सीधे तौर पर इस मंच से देश भर में शराबबंदी की मांग तो नहीं रखी लेकिन इशारों में याद दिलाया कि समाज के विकास और खुशहाली के लिए शराबंदी जरूरी है. नीतीश ने याद दिलाया कि गुरु गविंद सिंह की 350वीं जयंती और गांधीजी के चम्पारण सत्याग्रह के अवसर पर शराबंदी उन दो महान हस्तियों के लिए एक श्रदंधांजलि है.

नरेंद्र मोदी ने नीतीश की शराबबंदी के उल्लेख पर अपनी बात रखते हुए कहा कि नशामुक्ति एक समाज परिवर्तन का काम है. समाज परिवर्तन का काम बहुत जोखिम भरा काम होता है और नीतीश जी ने इस जोखिम को अपने सर पर उठाया है. उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ा काम है और बड़ा काम सिर्फ सरकारों के भरोसे नहीं किया जा सकता इसमें सभी लगना चाहिए.

 

मोदी ने उम्मीद जताई कि नशामुक्ति के नीतीश जी के अभियान से पूरे देश को प्रेरणा मिलेगी. हालांकि मोदी ने इस अवसर पर कोई ऐसा ऐलान नहीं किया कि वह नशामुक्ति को देश भर में लागू करने की दिशा में कोई पहल करेंगे या नहीं. लेकिन नीतीश की सराहनाा करके उन्होंने नीतीश के फैसले पर मुहर जरूर लगा दी है.

इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने प्रकाश पर्व के शानदार आयोजन के लिए सीएम नीतीश की तारीफ करते हुए कहा कि अगर यह जिम्मेदारी मुझे दी गयी होती तो भी मैं इस शानदार तरीके से निहीं निभा पाता जिस तरह से नीतीश जी ने निभाया है.

इन तारीफों को सुनने के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी सरकार कई सालों से इस काम में लगी थी. उन्होंने कहा कि तत्कालीन मुख्यसचिव जी एस कंग जो पंजाब के रहने वाले हैं मैंने उनको बुलाया और कहा कि इस आयोजन की सफलता की जिम्मेदारी वह संभालें. हमराे अधिकारियों ने इसमें इतना काम किया कि वे अब पंजाबी भाषा तक सीख गये हैं.

वहीं पीम मोदी ने कहा कि मुझे लोग बताते थे कि नीतीश कुमार इस तैयारी में इतने तल्लीन हैं कि वह एक एक काम को बारीकी से देख रहे हैं.

गौरतलब है कि सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह की 350 वीं जयंती को प्रकाश पर्व के रूप में पटना साहिब मनाने में बिहार सरकार ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थीं. गुरू गोविंद सिंह का जन्म पटना में हुआ था जहां उनके जन्मस्थान पर आज विश्वविख्यात पटना का हरमिंदर साहब  मौजूद है.

 

 

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*