नीतीश के सलाहकारों में शामिल हुए एक और नौकरशाह

आखिरकार पवन वर्मा नीतीश कुमार के सांस्कृतिक सलाहकार बन गये.भारतीय विदेश सेवा के इस नौकरशाह ने मुख्यमंत्री के करीब आने के लिए पिछले नवम्बर में भूटान के राजदूत के पद से इस्त्यातीफा दे दिया था.

राजनीतिज्ञों से ज्यादा नौकरशाहों को अपने करीब रखने में नीतीश कुमार ज्याद भरोसा करते हैं.इससे पहले आईएएस अधिकारी आरसीपी सिंह को उन्होंने अपने साथ लिया था.उसके पहले पूर्व वित्तसचिव एनके सिंह को भी वह राज्यसभा का सदस्य बनवा चुके हैं.

इधर कुछ सालों से नीतीश कुमार विशषज्ञों को सलाहकार बनाने में जुटे हैं.कुछ साल पहले उन्होंने कृषि वैज्ञानिक मंगला राय को अपना कृषि सलाहकार नियुक्त किया था जिनके बूते बिहार में इंद्रधनुषी क्रांति लाने का सपना दिखाया गया था.

जब नवम्बर में पवन ने भूटान के राजनयिक के पद से इस्तीफा दिया था तो नौकरशाही डॉट इन ने इसबात की संभावना जतायी थी कि वह नीतीश की टीम में शामिल हो सकते हैं.
पढ़ें- पवन वर्मा निभायेंगे नीतीश के चाणक्य की भूमिका

पवन कुमार वर्मा शनिवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित शिशु बोधिवृक्ष के समीप मुख्यमंत्री का सांस्कृतिक सलाहकार बनना स्वीकार किया.
पवन कुमार वर्मा ने इस मौके पर कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की स्वच्छ राजनीति,सुशासन व धर्मनिरपेक्ष छवि से वह प्रभावित हैं. वर्मा ने 1976 में भारतीय विदेश सेवा में योगदान दिया.राजनयिक के रूप में उन्होंने न्यूयार्क व मास्को में भी अपनी सेवा दी. न्यूयार्क में वह संयुक्त राष्ट्रसंघ में भारत के स्थायी मिशन के साथ थे.

पवन ने उर्दू और फारसी के विख्यात शायर मिर्ज़ा ग़ालिब की जीवनी भी लिखी है जो काफी चर्चित रही है.इसके अलावा इनकी दो महत्वपूर्ण पुस्तकें बेस्ट सेलर रह चुकी हैं.इनमें “द ग्रेट इंडियन मिडिल क्लास’ और “द ट्वेंटी फर्स्ट सेंचुरी विल बी इंडियास” शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*