नीरा के व्‍यावसायिक उपयोग पर सरकार गंभीर

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने आज यहां नीरा से संबंधित जानकारियां दीं । तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय के पूर्व डीन(हॉर्टीकल्चर) डॉ वी पुन्नूस्वामी ने श्री कुमार को नीरा तथा ताड़ के उत्पादों से संबंधित विस्तृत जानकारियां दीं । इस मौके पर एक प्रस्तुतीकरण दिया गया, जिसमें प्रत्येक बिन्दु पर विस्तार से चर्चा की गयी ।tadi

 

मुख्यमंत्री के साथ बैठक में बताया कि तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय और कृषि विश्वविद्यालय सबौर, भागलपुर के बीच एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये जायेंगे, जिसके तहत दोनों विश्वविद्यालय तकनीक का हस्तांतरण करेंगे। दोनों विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिक मिलकर काम करेंगे । बैठक में नीरा से गुड़, कैंडी, हनी तथा ताड़ पेड़ से प्राप्त होने वाले अन्य उत्पादों पर विस्तृत चर्चा की गयी । मुख्यमंत्री ने सभी बातों को ध्यान से सुना और समझा। उन्होंने नीरा उद्योग से संबंधित विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने का अधिकारियों को निर्देश दिया । उन्होंने प्रदेश के सभी ताड़ के पेड़ों की गिनती के भी आदेश दिये । उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में नीरा और ताड़ से प्राप्त होने वाले उत्पादों से संबंधित उद्योग लगाये जायेंगे।

 

बैठक में उद्योग मंत्री जयकुमार सिंह,मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा, कृषि उत्पादन आयुक्त विजय प्रकाश, प्रधान सचिव उद्योग डॉ एस सिद्धार्थ, प्रधान सचिव वित्त रवि मितल, प्रधान सचिव वन एवं पर्यावरण विवेक कुमार सिंह,प्रधान सचिव सहकारिता अमृत लाल मीणा,प्रधान सचिव निबंधन,उत्पाद एवं मद्य निषेध के के पाठक,प्रधान सचिव पशु एवं मत्स्य संसाधन एन.विजयलक्ष्मी,सचिव ग्रामीण विकास अरविन्द चौधरी, सचिव कृषि नर्मदेश्वर लाल,मुख्यमंत्री के सचिव चंचल कुमार,अतीश चन्द्रा और मनीष कुमार वर्मा तथा बिहार कृषि विश्वविद्यालय सबौर के कुलपति भी शामिल हुए। बैठक से पूर्व श्री कुमार ने ताड़ पेड़ के उत्पादों से संबंधित प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*