बसपा में शामिल हुए जद(यू) नेता अनिल सिंह यादव, कहा – भाजपा के इशारे पर चल रही जद(यू)

विधान परिषद चुनाव में सासाराम से जद (यू) के उम्‍मीदवार रहे अनिल सिंह यादव आज बहुजन समाज पार्टी (बसपा) में शामिल हो गए। उन्‍हें बसपा के राष्‍ट्रीय महासचिव राम अचल राजभर ने पार्टी की सदस्‍यता दिलाई। साथ ही उन्‍हें काराकाट लोकसभा क्षेत्र का प्रभार भी दिया गया। बसपा में शामिल होने के बाद अनिल सिंह यादव ने जदयू पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया और कहा कि देश में दलितों, पिछड़ों, गरीबों और आम जनों की आवाज सत्ता में बैठे लोग सुनते ही नहीं हैं। जदयू भी अब भाजपा के इशारों पर चलकर उनके जनविरोधी नीतियों की सहयोगी है। इसलिए हमने देश की गरीब और प्रताडि़त जनता की आवाज सुनने वाली सुश्री मायावती के साथ चलने का निर्णय लिया और आज हमने बसपा की सदस्‍यता ली।

नौकरशाही डेस्क

इससे पहले बसपा के राष्‍ट्रीय महासचिव राम अचल राजभर ने अनिल सिंह का पार्टी में स्‍वागत और अभिनंदन करते हुए कहा कि बहन मायावती को देशभर में सभी वर्गों का समर्थन मिल रहा है। यही वजह है कि लोग हमारी पार्टी से जुड़ रहे हैं और बहन मायावती की नीतियों में आस्‍था रखते हैं। उन्‍होंने बताया कि विधान परिषद चुनाव में बेहद कम अंतर से पराजित होने वाले अनिल सिंह यादव अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ बहन मायावती के साथ चलने का निर्णय लिया ही, साथ ही संघर्ष पार्टी ऑफ इंडिया के बिहार प्रदेश अध्‍यक्ष चंद्रशेखर कुमार तिवारी ने अपने तमाम कार्यकर्ताओं के साथ अपनी पार्टी का विलय बसपा में कर लिया। हम सबों का पार्टी में स्‍वागत करते हैं।

लोकसभा चुनाव में सीटों के सवाल पर राजभर ने कहा कि पार्टी इस लोकसभा चुनाव के सभी 40 सीटों पर अपने उम्‍मीदवार खड़े करेगी। इसके लिए पार्टी ने अभी से ही तैयारियां शुरू कर दी हैं। पार्टी प्रदेश में जिलावार कई कार्यक्रम आयोजित कर लोगों के बीच बहन मायावती के संदेश को पहुंचा रही है। इस दौरान समाज के सभी वर्गों का समर्थन बसपा को मिल रहा है।

राजभर ने कहा कि वर्तमान में केंद्र की मोदी सरकार और राज्‍य की नीतीश सरकार की जनविरोधी नीतियों से देश व प्रदेश की जनता हलकान है। एनडीए की सरकार जनहित से जुड़े मुद्दे पर पूरी तरह से फेल गई है। लोगों खुद को पीडि़त महसूस कर रहे हैं। उनके साथ अन्‍याय और नाइंसाफी हो रही है। अब तो नयाय मिलने की कोई उम्‍मीद भी नहीं बची है। उल्‍टे गरीबों को मजबूती देने वाले बाबा साहब के संविधान के कानून के साथ भी छेड़छाड़ कर उसे खत्‍म करने की साजिश चल रही है। वर्तमान सरकारों की इन्‍हीं जनविरोधर नीतियों के खिलाफ बसपा को लोगों को व्‍यापक समर्थन मिल रहा है और लोगों की एकमात्र उम्‍मीद बहन मायावती हैं। जिस वजह से लोग पार्टी में जुड़ रहे हैं।

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*