बिहार के दूसरे सेंटर ऑफ एक्सीलेंस चंडी का निरीक्षण किया डीएम ने नालंदा

बिहार के दूसरे सेंटर ऑफ एक्सीलेंस चंडी का निरीक्षण किया डीएम ने


नालंदा से संजय कुमार की रिपोर्ट

बिहारशरीफ।अपने क्षेत्र भ्रमण के क्रम में जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह ने आज सेंटर ऑफ एक्सीलेंस चंडी का निरीक्षण किया।
डीएम ने बताया कि पूरे राज्य में मात्र दो सेंटर ऑफ एक्सीलेंस कार्यरत हैं।


पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस वैशाली जिला में स्थित है, जहां फलों के पौधे तैयार किए जाते हैं। वहीं दूसरा सेंटर ऑफ एक्सीलेंस चंडी में स्थित है, जहां विभिन्न प्रकार की सब्जियों की खेती के साथ-साथ उनके पौधे भी उगाए जाते हैं।
इस केंद्र पर किसानों के बीच डेमोंस्ट्रेशन के लिए विभिन्न प्रकार एवं प्रजातियों की सब्जियों की खेती अलग अलग पॉलीहाउस एवं ओपन फील्ड वातावरण में की जाती है तथा दोनों पद्धतियों के माध्यम से उत्पादन के अंतर के बारे में किसानों को भ्रमण करा कर जानकारी दी जाती है।


केंद्र के माध्यम से किसानों को सब्जी की खेती के संबंध में प्रशिक्षण भी दिया जाता है तथा पॉलीहाउस, ड्रिप इरिगेशन आदि पद्धति के बारे में भी जानकारी दी जाती है।
इस केंद्र में एक उच्चतम तकनीक की नर्सरी भी है, जहां 5 लाख पौधे उगाने की क्षमता है। इस नर्सरी के माध्यम से विभिन्न प्रकार की सब्जियों के पौधे तैयार किए जाते हैं तथा सेंटर के साथ संबद्ध किए गए विभिन्न जिलों को उपलब्ध कराया जाता है।
इस सेंटर पर फिलहाल ब्रॉकली, रेड कैबेज, शिमला मिर्च, रंगीन शिमला मिर्च, सीडलेस खीरा, बैंगन, टमाटर आदि सब्जियों की खेती के साथ-साथ पौधे भी तैयार किए जा रहे हैं।


जिलाधिकारी ने यहां विभिन्न सब्जियों की खेती एवं नर्सरी को देखकर प्रसन्नता व्यक्त की तथा अधिक से अधिक किसानों को डेमोंस्ट्रेशन एवं प्रशिक्षण के माध्यम से लाभान्वित कराने का निर्देश दिया।
इस अवसर पर उप निदेशक उद्यान संजय कुमार सिन्हा, सहायक निदेशक उद्यान ज्ञान चंद, सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के प्रभारी अभय कुमार आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*