बिहार में अब 40 हजार फर्जी सर्टिफिकेट पर टीचर की नौकरी करने का हुआ पर्दाफाश

इंटर टॉपर घोटाला और बीएसएससी परीक्षा घोटाला से जूझ रहे बिहार के लिए अब टीचर नियुक्ति घोटाला का पर्दाफाश एक हिंदी अखबार ने किया है.

सांकेतिक फोटो

सांकेतिक फोटो

इस घोटाले के बारे में अखबार ने दावा किया है कि एक सर्टिफिकेट पर नवादा में 11 महिलाओं को नौकरी दी गयी.

दैनिक भास्कर में अशोक प्रियदर्शी ने लिखा है  एक रौल नंबर है-2515111897, इस नंबर पर पूनम कुमारी ने 2011 में बिहार शिक्षक पात्रता परीक्षा पास की। लेकिन इसी सर्टिफिकेट पर नवादा जिले में 11 पूनम कुमारी टीचर के पद पर बहाल हैं। ऐसी पूनम हिसुआ के सरतकिया, कौआकोल के मंझिला, मेसकौर के गांधीधाम, नारदीगंज के सुलतानपुर, मसोढ़ा उर्दू, पकरीबरावां के तिरवां, जिलवरिया, पीपरा पोखरा, वारिसलीगंज के खीरभोजना और गोपालपुर स्कूलों में बहाल हैं।

अखबार का दावा है कि फर्जी डिग्री पर नवादा में पूनम कुमारी की तरह कुल 260 लोग नौकरी कर रहे हैं. और हो सकता है कि राज्य में इस तरह की फर्जी नौकरियां करने वालों की संख्या चालीस हजार तक हो.

उधर शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने अखबार से कहा है कि जांच के बाद गड़बड़ी करने वाले अफसरों पर कार्रवाई की जाएगी। गलत तरीके से नौकरी कर रहे लोगों पर केस होगा। मानदेय की राशि सूद समेत वसूली जाएगी।

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*