ब्लातकार की ऐसी घटना जो आपकी रूह को थर्रा दे

घटना स्थल और शव को देखकर किसी के भी रूह काँप जाए, क्योंकि मौत और अनाचार की इस घटना के बीच हुए संर्घष के निशान वहां सबकुछ बया कर रहे थे।

घटना स्थल पर लोग- फोटो हेलो सीजी

घटना स्थल पर लोग- फोटो हेलो सीजी

 

छत्तीस गढ़ कोण्डागांव जिले के बयानार की पहाड़ी पर सातवी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा का अद्धनग्न अवस्था में शव मिला है। छात्रा की हत्या बेरहमी से किया गया था आशंका जतायी जा रही है कि पहले छात्रा को घसीट कर जंगल की ओर ले जाया गया फि र उसकी आंख व मुंह में फ ेवीक्विक डाला गया शव को देख कर यह आशंका जतायी जा रही है कि छात्रा के साथ बडी बेरहमी से अनाचार कर उसकी हत्या की गयी होगीं।
स्कूल के रास्ते है पहाड और जंगल – छात्रा रोज की तरह अपने घर से एक किलो मीटर दूर पहाडी के रास्ते से अपने साथियों के साथ स्कूल जाने के लिये निकली थी, पर रास्ते में साईकिल पंचर होने से उसके साथी आगे निकल गये और वह अकेली हो गयी। अकेली 15 वर्षीया नाबालिक छात्रा न स्कूल पहुचंी और न ही घर। कृषक परिवार की यह छात्रा दो भाई और चार बहनों में चौथे नम्बर की सदस्य थी जोकि बयानार मिडिल स्कूल में कक्षा आठवीं में अध्ययनरत थी। सांय 6 बजे तक छात्रा जब घर नहीं पहुची तो ंिचंतित परिवार ने उसकी खोज शुरू की। पिता मन्हेर सोरी एक प्राथमिक शाला के शिक्षक को लेकर जब स्कूल के रास्ते पर गये तो पहाड़ी पर रास्ते में छात्रा का बस्ता दिखा। कुछ ही दूरी पर जंगल में कुछ कपड़ा जैसा दिखा वहां पहुचे अर्धनग्न अवस्था में छात्रा का मृत शव मिला।
एक साल से है समाज से निष्कासित 
मृतिका के भाई छेतराम शोरी ने बताया कि उनके परिवारजन लगभग 18 वर्षों से मसीही समाज में शामिल हुये हैं, इसके चलते उनके पूरे परिवार को गांव वालों ने समाज से निष्कासित किया हुआ है। साथ ही जमीन का झगडा में गांव के गांयता लोगों से चल रहा है। वे तीन एकड़ जमीन पर जबरन कब्जा करके खेती भी कर रहे है। कुछ दिवस पूर्व गांयता कांचा नेताम, सीताराम नेताम व लिवरू नेताम के साथ झगडा हुआ था। वे हमें गांव से निकालने की मांग करते है। सामाजिक कार्यो में कोई गांव वाले न तो आते है और न ही हमारे परिवार को बुलाया जाता है।
जिले में पहली घटना

आंखों व मुंह में क्विक फिक्स चिपका कर रैप एंड मर्डर की जिले में सनसनीखेज यह पहली घटना है। क्षेत्र में इस तरह की घटना चर्चा का विशय बन गयी है और लोगों में दहषत व आक्रोश की लहर दौड़ गयी है। पुलिस ने मामला दर्ज कर के विवेचना शुरू कर दी है। 22 जुलाई सुबह नौ बजे से सांय 6 बजे के बीच की इस घटना ने कू्ररता की हदें पार करते हुये निर्भया काण्ड को भी पीछे छोड दिया है। माना जा रहा है कि दरिंदे पहचान के ही हो सकते है इसी के चलते नाबालिक की आंखों और मुंह को क्विक फि क्स जैसे केमीकल से चिपकाया गया।
मौके पर मिली उतेजना बढ़ाने वाली गोलियां 
जैसे ही मामले की जानकारी पुलिस तक पहुंची आलाधिकारी समेत फ ॉरेंसिक की टीम बयानार के घटना स्थल पहुंची गई। घटना स्थल को देखकर किसी के भी रूह काँप जाए, क्योकि मौत और अनाचार के इस घटना के बीच हुए संर्घष के निशान वहा सबकुछ बया कर रहे थे। सोनम के पिता ने बताया, घर से स्कूल पहुंच मार्ग के जंगल के पास उसका स्कूली बैग मिला। उसी बैग से जंगल के अंदर तक सोनम को घसिटने जाने के निशान भी थे। निशान का पीछा करते हुए पिता जंगल के अंदर झाड़ियों में छुपे शव तक पहुंचे। यहां सोनम का शव जख्मों के निशान के साथ अर्धनग्न अवस्था मिला। कातिल ने मौके पर कामोतेजना बढ़ने वाली गोलियों का इस्तेमाल कर फ ेका था। छात्रा का अर्धनग्न शव, कामोतेजना बढ़ने वाली गोलियों के अलावा मौके पर एक गमछा भी पुलिस को मिला है। घटना स्थल को देखकर साफ पता चल रहा है कि, मामले को एक ने नहीं बलकि एक समूह ने अंजाम दिया है। मृतिका के पिता की माने तो इस तरह के घटना यहा होता ही नही है, इस घटना को बहारी के किसी अज्ञात व्यक्तियों के समुह ने अंजाम दिया है।

hellocg.com की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*