‘भाजपा के डर से सेक्युलर पार्टियों की गुलामगिरी करने वाले मुस्लिम नेताओं ने ही मुसलमानों का बेड़ गर्क कर दिया’

जनता दल राष्ट्रवादी के राष्ट्रीय कंवेनर अशफाक रहमान ने मुस्लिम उलेमा व मुस्लिम रहनुमाओं पर कड़ा चोट करते हुए कहा है कि उन्होंने भाजपा को हराने के लिए कथित सेक्युलर पार्टियों का जितना साथ दिया है उतना ही भाजपा आगे बढ़ती गयी है.

अशफाक रहमान

 

उन्होंने कहा कि जिस दिन मुसलमान यह तय कर लें कि उन्हें किसी को हराने के बजाये खुद जीतना है उस दिन मुसलमानों का देशव्यापी नेतृत्व उभर जायेगा.

 

अशफाक रहमान ने कहा कि सेक्यलरिज्म की झूठी सियासत करने वाली पार्टियों ने मुस्लिम नेतृत्व को अपना जर खरीद गुलाम बना रखा है. ऐसे मुस्लिम नेता भाजपा को हराने के नाम पर मुसलमानों का वोट उन्हें थोक भाव में दिलवाने की कोशिश करते हैं और बदले में एक अदद कुर्सी के लिए अपनी गुलामी उनके नाम लिख देते हैं. हालांकि ये पार्टियां मुस्लिम नेताओं को अपना बंधुआ गुलाम से ज्यादा कभी नहीं समझतीं.

सारी समस्यायों का समाधान बस  एक फार्मुले में निहित है कि वह अपनी ताकत से किसी और दल को जितवाना बंद करें और अपनी राजनीति और अपने नेतृत्व पर ध्यान दें. जब हमारा नेतृत्व शक्तिशाली होगा तो यही कथित सेक्युलर पार्टियां हमारी शर्तों पर हमसे गठबंधन करने पर मजबूर होंगी- अशफाक रहमान

अशफाक रहमान ने मुस्लिम अवाम को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वे ऐसे गुलाम मानसिकता वाले नेताओं को जब तक रिजेक्ट नहीं करेंगे तब तक उनकी आर्थिक, शैक्षिक व समाजी हालत में बदलाव नहीं होगा.  अशफाक रहमान ने कहा कि कौम की रहबरी करने का दावा करने वाले लोग अगर खुद किसी दल की गुलामी करें तो उन्हें किसी भी हाल में रहबर नहीं स्वीकार किया जा सकता. उन्होंने कहा कि सांसदी व विधायकी के लिए गुलामगिरी करने वाले ऐसे नेताओं ने मुसलमानों का बेड़ा गर्क कर दिया है. उन्होंने कहा कि मुसलमानों को चाहिए कि वे अपनी सियासत और अपनी कयादत के लिए आगे बढ़ें और अपना नेतृत्व किसी और को सौंपने के बजाये अपने हाथों में रखें. उन्होंने कहा कि जबतक मुसलमान अपनी ताकत अन्य पार्टियों के सहारे भाजपा को हराने में लगाते रहेंगे तब तक भाजपा मजबूत हो कर उभरती रहेगी.

 

 

अशफाक रहमान ने कहा कि भाजपा जब जब सशक्त हुई है मुसलमानों पर जुल्म बढ़ा है क्योंकि मुसलमानों ने अपना नेतृत्व सेक्यलरिज्म के स्वंयभू नेताओं के हाथों में सौंप दिया है. उन्होंने कहा कि उनकी सारी समस्यायों का समाधान बस  एक फार्मुले में निहित है कि वह अपनी ताकत से किसी और दल को जितवाना बंद करें और अपनी राजनीति और अपने नेतृत्व पर ध्यान दें. उन्होंने कहा कि जब हमारा नेतृत्व शक्तिशाली होगा तो यही कथित सेक्युलर पार्टियां हमारी शर्तों पर हमसे गठबंधन करने पर मजबूर होंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*