मुजफ्फरपुर बलात्‍कार कांड को लेकर हंगामा, लोकसभा की कार्यवाही स्‍थगित

बिहार के मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड में आरोपियों को बचाने और सबूत नष्ट करने का आरोप लगाते हुये आज कांग्रेस तथा राष्ट्रीय जनता दल के सदस्यों ने शून्यकाल के दौरान लोकसभा में हँगामा किया और सरकार की ओर से निष्पक्ष जाँच का आश्वासन दिये जाने के बावजूद सदन से बहिर्गमन कर गये


प्रश्नकाल की कार्यवाही समाप्त होते ही कांग्रेस तथा राजद के सदस्य मुजफ्फरपुर के एक बालिका आश्रय गृह में 40 बच्चियों के साथ बलात्कार मामले को उठाने की माँग करते हुये अपनी सीटों पर खड़े हो गये। अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि वह जरूरी कागजात रखे जाने के बाद शून्यकाल में उन्हें इसकी अनुमति देंगे।  शून्यकाल शुरू होने पर उन्होंने कांग्रेस की रंजीत रंजन तथा राजद के जयप्रकाश नारायण यादव को इस पर बोलने भी दिया। लेकिन दोनों दलों के सदस्य गृह मंत्री से बयान की माँग को लेकर अध्यक्ष के आसन के समीप आ गये। श्रीमती रंजीत रंजन ने अध्यक्ष के डेस्क पर से किताब नीचे फेंक दी। उन्होंने लोकसभा महासचिव की डेस्क पर से भी कुछ कागजात नीचे गिरा दिये। हँगामा बढ़ता देख श्रीमती महाजन ने 12.20 मिनट पर सदन की कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी।

सदन की कार्यवाही दुबारा शुरू होने पर भी कांग्रेस और राजद का हँगामा जारी रहा। अध्यक्ष ने कहा कि मामला संवेदनशील है और सीबीआई जांच के आदेश दिये जा चुके हैं। इसलिए हर बार गृहमंत्री बोले, यह जरूरी नहीं है। इसबीच संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि इस मामले में गृह मंत्री पहले ही बयान दे चुके हैं तथा सीबीआई जाँच के आदेश दे दिये गये हैं। उन्होंने आश्वासन दिया कि सीबीआई जाँच पूरी तरह निष्पक्ष होगी। सदस्यों ने जो भी नयी बात उठायी है, उसे गृहमंत्री को प्रेषित कर दिया जाएगा। लेकिन उनके जवाब से असंतुष्ट कांग्रेस और राजद के सदस्य सदन से बाहर चले गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*