‘मैं डरने वाला नहीं, कार्रवाई तो गिरिराज के खिलाफ होनी चाहिए’

गिरिराज सिंह के कथfत ‘खूनख्वार आतंकवादी’ और रणवीर सेने के ‘सरगना’ से संबंध रखने संबंधी रिपोर्ट देने वाले आईपीएस अमिताभ दास ने कहा है कि वह किसी कार्रवाई से डरने वाले नहीं.

अमिताभ दास: विवादित बयानों के लिए मशहूर

अमिताभ दास: विवादित बयानों के लिए मशहूर

विनायक विजेता

इतना ही नहीं 1994 बैच के आईपीएस अफसर ने अपनी बात दोहराते हुए कहा है कि ‘कार्रवाई तो गिरिराज सिंह के खिलाफ होनी चाहिए जिन्होंने प्रतिबंधित रणवीर सेना के संस्थापक अध्यक्ष ब्रह्मेश्वर मुखिया को ‘गांधीवादी’ करार दिया था’।

यह भी पढ़ें- गिरिराज के  प्रतिबंधित संगठन रणवीर सेना से संबंध का खुलासा

गौरतलब है कि भाजपा के नवादा से सांसद गिरिराज सिंह को पिछले रविवार को ही केंद्रीय राज्य मंत्री के रुप में पद ग्रहण किया है. उसके दो दिन बाद ही मानवादिकार आयोग के एसपी अमिताभ दास ने अपने दस्तखत से सोमवार को स्पेशल ब्रांच के आईजी जितेंद्र सिंह गंगवार को एक रिपोर्ट भेजी है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह के संबंध  ‘खूनख्वार आतंकवादी’ ब्रह्मेश्वर मुखिया से रहे हैं और उन्होंने मुखिया को गांधीवादी भी बताया  था.

सूत्रों के अनुसार आज यानी गुरुवार को आयोग में होने वाली बैठक के बाद आयोग के अध्यक्ष बिलाल नजकी इस संदर्भ में गृह सचिव को पत्र भेजने वाले हैं।

सनद रहे की आयोग माह के हर दूसरे और चौथे बुधवार को अपने अधिकारियों की बैठक आयोजित करता है।

विवादित बयानों के लिए विख्यात 

अमिताभ के दस्तखत से जारी रिपोर्ट

अमिताभ के दस्तखत से जारी रिपोर्ट

 

गौरतलब है कि 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी अपने विवादित बयान और पत्राचारों के लिए चर्चित रहे हैं और कई मामलों में उनपर प्रोसिडिंग भी चल रही है जिस कारण आजतक उनकी प्रोन्नति नहीं हो सकी जबकि उनके बैच के कई आईपीएस अधिकारी आईजी और डीआईजी पद पर प्रोन्नति पा चुके हैं।

10 सितम्बर 2002 को रफीगंज के पास धावे नदी पूल पर हुई राजधानी एक्सप्रेस हादसा जिसमें 100 से अधिक लोग मारे गए थे के समय भी अमिताभ दास ने तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी की थी।

श्री दास उस वक्त पटना के रेल एसपी हुआ करते थे। राज्य मानवाधिकार आयोग के सदस्य नीलमणि ने भी कहा कि अमिताभ दास को केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ पत्राचार करने पर सवाल उठाया है उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री के रणवीर सेना का समर्थक या संपोषक होने की कोई शिकायत आयोग में कभी नहीं की गई है ऐसे में आयोग के एसपी द्वारा किया गया पत्राचार बिल्कुल ही गलत है।

गौरतलब है कि आईपीएस अधिकारी अमिताभ दास पर पूर्व में पटना की ही एक युवती ने शादी के नाम पर यौन शोषण करने का आरोप लगाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*