मोदी की डिग्री पर फिर उठा सवाल: 1983 में एमए तो 1987 में बीए कैसे कर लिया?

पीएम नरेंद्र मोदी की शौक्षिक योग्यता पर सवाल खड़े का सिलसिला खत्म नहीं हो रहा है. गुजरात विश्विविद्यालय द्वार मोदी को 1983 में एमए की डिग्री दिये जाने के बाद अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उनके बीए की डिग्री पर सवाल खड़ा किया है.kejriwal-modi-fake-degree
केजरीवाल ने पूछा है कि मोदी ने अगर 1983 में गुजरात के विश्वविद्यालय से एमए किया तो यह कैसे हो सकता है कि दिल्ली युनिवर्सिटी से उन्होंने 1987 में बीए किया. इस संबंध में केजरीवाल ने डीयू के वीसी को पत्र लिखा है.

केजरीवाल ने कहा ‘डीयू ने प्रधानमंत्री की डिग्री दिखाने से मना कर दिया। क्यों? मेरी जानकारी के मुताबिक उनके पास बीए की डिग्री नहीं है।’

कुलपति योगेश त्यागी को लिखे पत्र में केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी मोदी के चुनावी हलफनामे का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से कला स्नातक (आर्ट ग्रेजुएट) की डिग्री का दावा किया है। दिल्ली के सीएम ने कहा, “प्रधानमंत्री की डिग्री से संबंधित सभी दस्तावेजों को विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर डालना बेहतर होगा।” उन्होंने कहा कि देश की जनता को यह जानने का अधिकार है कि उनके प्रधानमंत्री कितने शिक्षित हैं।
उधर आप नेता आशीष खेतान ने लिखा ‘अरविंद केजरीवाल की डिग्री और मार्कशीट चार दिन में मिल गई, लेकिन मोदी जी की डिग्री DU दो साल से नहीं ढूंढ़ पा रही। क्यों?’

One comment

  1. Modi ji jis degree se MA kiye the wo BA ki degree kho gayi phir bad me MA karne ke bad BA dubara kiye hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*