मोदी-शाह गुरु चेला की नींद उड़ाने वाला है SP-BSP Alliance

मायावती ने शनिवार को अखिलेश यादव के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में SP-BSP Alliance की घोषणा करते हुए कहा कि दोनों पार्टियों का गठबंधन नरेंद्र मोदी और उनका चेला अमित शाह की नींद उड़ाने के लिए काफी है.

मायावती ने शनिवार को अखिलेश यादव के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में SP-BSP Alliance की घोषणा करते हुए कहा कि दोनों पार्टियों का गठबंधन नरेंद्र मोदी और उनका चेला अमित शाह की नींद उड़ाने के लिए काफी है.

लखनऊ में प्रेस कांफ्रेस में मायावती ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक प्रेस कांफ्रेस है जिसमें हम  SP-BSP Alliance  की घोषणा करते हैं. उन्होंने कहा कि यह गटबंधन देश भर के लिए है. उन्होंने कहा कि गेस्ट हाउस कांड को भुलाते हुए हम बड़े उद्देश्य के लिए और भाजपा की जातिवादी राजनीति के खिलाफ यह गठबंधन कर रहे हैं.

मायावती ने कहा कि यह प्रेस कांफ्रेस नरेंद्र मोदी और उनके चेले अमित शाह की नींद उड़ाने वाली ऐतिहासिक प्रेस कांफ्रेंस है.

 

मालूम हो कि गेस्ट हाउस कांड वह घटना थी जिसमें समाजवादी पार्टी के लोगों ने मायावती को एक गेस्ट हाउस में बंद करके उनको यातनायें दी थीं उसके बाद इन दोनों पार्टियों के बीच कभी गठबंधन नहीं हुआ था. इस घठना के 24 साल बाद दोनों पार्टियों ने गठबंधन किया है.

SP-BSP Alliance लोकसभा चुनाव में 38-38 सीटों पर लड़ेगा. संभव है कि अमेठी और रायबरेली की सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ दी गयी हैं.

 

SP-BSP Alliance से भाजपा की चिंता

केंद्र में सरकार बनाने के लिए यूपी की सीटें महत्वपूर्ण होती हैं इस लिहाज से सपा-बसपा गठबंधन को बीजेपी की टेंशन बढ़ाने वाला गठबंधन माना जा रहा है.

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा गठबंधन पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, गठबंधन हो या महागठबंधन, हम 2014 से बेहतर प्रदर्शन करेंगे.’ मीडिया से बातचीत करते हुए योगी ने कहा, “जो पहले एक-दूसरे को फूटी आंख नहीं देखते थे, आज साथ आ रहे हैं. ऐसे में बीजेपी के खिलाफ इस तरह का कोई भी गठबंधन या महागठबंधन अराजकता और राजनीतिक अस्थिरता ही लाएगा.

उधर अमर सिंह ने गठबंधन पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “समाजवादी पार्टी के संस्थापक हमेशा मुलायम सिंह जी रहेंगे. इस कदम के साथ ही वह पूरी तरह अलग हो गए हैं. बैनर पर मुलायम, अखिलेश और मायावती साथ नहीं रह सकते हैं. ये केवल अखिलेश और मायवती ही होंगे. ‘बुआ और बबुआ’

इस फैसले से अब यह तय हो गया है कि कांग्रेस के लिए इस गठबंधन में जगह नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*