‘यह सजा नहीं, शासक वर्ग की साजिश है’

अजीत सरकार हत्या मामले में बाइज्जत बरी होने वाले पप्पू यादव ने ज्ञानेश्वर से एक साक्षात्कार में कहा है कि लालू यादव शासक वर्ग की साजिश का शिकार हुए हैं.

लालू के साथ पप्पू यादव, साभार  इमेज99.कॉम(फाइल फोटो)

लालू के साथ पप्पू यादव, साभार इमेज99.कॉम(फाइल फोटो)

यह भी जरूर पढ़ें- लालू की तेजस्वी से उम्मीदें

खबर मिली कि पप्‍पू यादव होटवार जेल जाकर लालू यादव से मिलने वाले हैं । बिहार के सीमांचल की राजनीति के ख्‍याल से यह समीकरणों का गुणा-भाग भी है । अजीत सरकार हत्‍या-कांड में कोर्ट से बाइज्‍जत बरी होने के बाद पप्‍पू यादव ने किशनगंज से खगडि़या तक मेला लगा रखा है । बहुत बदले भी दिखते हैं । जैसी रैली और सभा लगातार कर रहे हैं,लगता है मिट्टी मजबूत बनी हुई है । कोर्ट के निर्णय के बाद सहानुभूति भी मिल रही है । ऐसे में,जेल जाकर लालू यादव से मिलने का इरादा 2014 के लोकसभा चुनाव का पूर्वानुमान भी बता रहा है ।

मन खंगालने को मैंने श्री यादव का फोन मिला लिया । पत्‍नी श्रीमती रंजीता रंजन अभी कांग्रेस में ही हैं । सो,सीधा सवाल कि लालू प्रसाद से मिलने का ध्‍येय क्‍या राजद से चुनाव लड़ने का मन है । बोले,अभी सवाल पार्टी का नहीं है । मिलने इसलिए जा रहा,क्‍योंकि लालू प्रसाद एक विचारधारा हैं । पिछडों व गरीबों की आवाज हैं । लोहिया,जेपी,कर्पूरी के बाद वंचित समाज की सबसे मजबूत लड़ाई लालू यादव ने ही लड़ी है । इस लड़ाई का खामियाजा ही आज उन्‍हें शासक वर्ग ने सजा के रुप में दी है । यह सजा नहीं,लोकतंत्र में गरीबों व पिछडों की आवाज को बाहर का रास्‍ता दिखाने का षड्यंत्र है । इसे समाज कभी बर्दाश्‍त नहीं करने वाला ।

आगे पप्‍पू यादव ने कहा,देश का सिस्‍टम अर्से से लाखों करोड़ के घोटाले को पैदा करता रहा है । माल भी महाराज ही लूटते रहे हैं । लेकिन सिस्‍टम इन्‍हें बचाता रहा है । बचाव को सभी तरह के उपाय होते रहे हैं । लेकिन लालू यादव के मामले को देखिये । 37 करोड़ के घोटाले में कहा जा रहा है कि चालीस लोगों ने मिलकर खाया । आप समझ सकते हैं कि कितनी थोथी दलील है । बेमानी तो साफ है कि जिन अफसरों की वजह से घोटाला हुआ,उन्‍हें कम सजा मिल रही है और लालू यादव को सर्वाधिक । समाज सब कुछ जान और समझ रहा है ।

सिस्‍टम देश भर में गरीबों-वंचितों की आवाज को कुचलने में लगा है । लालू यादव ही नहीं,मुलायम सिंह यादव और मायावती भी किसी दूसरे की खेती से राजनीति में नहीं आये हैं । सबों ने वंचित समाज के लिए लंबा संघर्ष किया है और सत्‍ता हासिल की है । लेकिन बहुतों को गरीबों को मिली आवाज सुहाती नहीं । सो,एक-एक कर सबों को निशाने पर लिया जाता रहा है । हरियाणा में चौटाला को तो फांस ही दिया गया

पप्‍पू यादव कहते हैं कि सिस्‍टम देश भर में गरीबों-वंचितों की आवाज को कुचलने में लगा है । लालू यादव ही नहीं,मुलायम सिंह यादव और मायावती भी किसी दूसरे की खेती से राजनीति में नहीं आये हैं । सबों ने वंचित समाज के लिए लंबा संघर्ष किया है और सत्‍ता हासिल की है । लेकिन बहुतों को गरीबों को मिली आवाज सुहाती नहीं । सो,एक-एक कर सबों को निशाने पर लिया जाता रहा है । हरियाणा में चौटाला को तो फांस ही दिया गया । राजा-महाराजा लोग घोटाला-दर-घोटाला कर भी कैसे बच जा रहे हैं,जनता को बताना-जानना होगा ।

उन्‍होंने कहा कि जेल में लालू यादव को कैद कर यह मानने वाले लोग कि वे मिट गये,मुगालते में हैं । समय बतायेगा सबों को औकात । लोकतंत्र में जनता मालिक है और रहेगी । गरीब-पिछड़े जान गये हैं कि लालू यादव को ठीक चुनाव के पहले क्‍यों जेल पहुंचाया गया । वोट का वक्‍त आ रहा है,हिसाब भी वह ठीक से कर देगी । बहरहाल पप्‍पू यादव इस सवाल पर चुप्‍पी साध गये कि वे किस लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने को जा रहे हैं । कहा,पहले लालू जी से मिलकर आता हूं,फिर आगे की बात करेंगे । साथ में यह भी कह गये कि इस मुलाकात को चुनाव से हरगिज न जोड़ें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*