राजद-जदयू में घटी दूरियां, गठबंधन तोड़वाने में सक्रिय मीडिया के फूलने लगे हाथ-पांव

तेजस्वी यादव का इस्तीफा दिलवाने और महागठबंधन तोड़वाने के अभियान में जुटे कुछ अतिसक्रिय मीडिया और उनके पत्रकारों के हाथ पांव फूलने लगे हैं. खबरों बढ़ा-चढ़ कर पेश करने पर जद यू ने साफ कहा है कि उसने राजद को न अल्टिमेट दिया है और न ही इस्तीफे की मांग की है.

इर्शादुल हक, ए़डिटर नौकरशाही डॉट कॉम

उधर कांग्रेस के अशोक चौधरी ने नीतीश कुमार और लालू प्रसाद से अलग अलग मुलाकात करने के बाद कहा है कि गठबंधन अटूट है और इसके बिखरने का सपना देखने वालों के लिए कोई अवसर नहीं है. दूसरी तरफ लालू प्रसाद ने दो बातें साफ कही हैं. पहला कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देने वाले और ना ही गठबंधन टूटने का कोई सवाल है.

 

यह भी पढ़ें- हथियार चमकेगा, चलेगा नहीं, गठबंधन सलामत रहेगा

लेकिन मीडिया के एक हिस्से ने पिछले एक हफ्ता से जिस तरह अभियान छेड़ा और राजद पर दबाव बनाने की कोशिश की है इससे मीडिया की भूमिका एक राजनीतिक दल के रूप में सामने आयी है. मीडिया की यह सक्रियता इस कदर आक्रामक दिखी कि न सिर्फ राजद के नेताओं के साथ बल्कि जद यू के नेताओं के साथ भी झड़प की नौबत आ गयी थी. कुछ पत्रकार नीतीश को यह सलाह देते नहीं थक रहे थे कि गठबंधन टूटने की स्थिति में कैसे भाजपा उन्हें सर पर बिठाने को तैयार है. लेकिन अब ऐसे मीडिया और उनके पत्रकारों की बेचैनी इसलिए बढ़ने लगी है क्योंकि जद यू ने साफ कर दिया है कि उसने राजद के समक्ष कोई अल्टिमेटम नहीं दिया. गौरतलब है कि मीडिया, जद यू के एक नेता के हवाले से यह अफवाह फैलाने मेंं लगा था कि जद यू ने राजद के समक्ष 72 घंटे का अल्टिमेटम दिया है. मीडिया के ऐसे रवैये को तब और झटका लगा जब जद यू ने श्याम रजक के बयान को उनका निजी बयान बता दिया. दर असल श्याम रजक ने कहा था कि नीतीश मिट जायेंगे लेकिन वह भ्रष्टाचार के खिलाफ कोई समझौता नहीं करेंगे. रजक ने यहां तक कहा था कि नीतीश कुमार को राजद के साथ गठबंधन बनाये रखने का कोई औचित्य नहीं है.

पिछले एक हफ्ते के तमाम घटनाक्रम के बाद जब जदयू ने यह साफ किया है कि उसने राजद को कोई अल्टिमेटम नहीं दिया है तो इससे अब लगने लगा है कि गठबंधन के खिलाफ चलाये गये अभियान का कोई असर होता नहीं दिख रहा है. इस बीच  जद यू ने अपने तमाम प्रवक्ताओं को हिदायत जारी की है कि वह सोच समझ कर प्रतिक्रिया दें. इसके बाद जद यू के प्रवक्ता नवल शर्मा ने कहा है कि उनकी पार्टी गठबंधन धर्म का पालन करना जानती है.

 

 

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*