भगवान राम के राजनीतिक दोहन के बाद अब महिषासुर पर उतरी भाजापा

क्या आप अपने राम को भूलने को तैयार हैं? आप भूलें या न भूलें लेकिन भाजपा उन्हें भूल कर महिषासुर की राजनीति पर छलांग लगा रही है. पूरा आलेख पढिए नवल शर्मा की जुबानी.
ram.bhakt2

 

क्या आप अपने राम को भूलने के लिए तैयार हैं ? आप अपने आराध्य को भूलने का पाप भले नहीं करें लेकिन बीजेपी उन्हें लगभग भूल चुकी है और अब उसके लिए रामलला से ज्यादा महत्वपूर्ण महिषासुर हो गया है . भगवान राम का जितना राजनीतिक दोहन हो सकता था बीजेपी ने कर लिया.

राममन्दिर के नाम पर उगाही के पैसे से आरएसएस के रामभक्तों के आलीशान बंगले बन गए , अपने राम पर सब कुछ न्योछावर करने का भाव रखनेवाली कितनी भारतमाताओं ने अपने जेवर और मंगलसूत्र तक दान कर दिए थे , वो सब इन रामभक्तों पर कुर्बान हो गए .

 

बीजेपी की नज़रों में आपके रामलला अब बूढ़े हो चुके , उनकी अब कोई उपयोगिता नहीं रही , बीजेपी की नज़रों में वे काठ की हांडी हो चुके जो दुबारा नहीं चढ़ेंगे. इसलिए अब कुछ नया चाहिए , कुछ ऐसा जो एक बार फिर आपको जगा दे , आपके मन में कुछ ऐसा भाव पैदा कर दे जो आपको बीजेपी की तरफ मोड़ दे . तो अब जो  धर्म की सियासी खिंचड़ी बनेगी उसकी रेसिपी बदल जाएगी . अब उसमें राम की जगह महिसासुर , अंध राष्ट्रवाद , रोहित वेमुला और जेएनयु सरीखे नए मसाले फेंटे जायेंगे , जीरा के रूप में  झूठी देशभक्ति का छौंक दिया जायेगा और सबसे ऊपर तिरंगा फहराया जायेगा .

इस बार लोकल नहीं बल्कि राष्ट्रीय मसालों का इस्तेमाल किया जायेगा . राजनीति में कभी इतनी तेजी से मुद्दे बदलते देखे हैं आपने ? लोकसभा चुनाव के पहले कालाधन , गरीबी और बेरोजगारी जैसे ऐसे मुद्दे भी उछाल मार रहे थे की लग रहा था बस अब दुखों के अंत का समय आ गया है .

 

कालाधन आएगा – सबके खाते में जमा होगा – महंगाई घटेगी – पेट्रोल डीजल सस्ता होगा , न जाने कितने वायदे . और आज ? इसके लिए मुझे गाली देने के बजाय यह सवाल उन नटवर नागर से पूछा जाना चाहिए कि कालाहांडी के सूखे पेटों को रोटी चाहिए या महिसासुर ? रोटी , रोजगार सब गायब हो गए इनके एजेंडे से . कोई चर्चा तक नहीं . जब मन किया तो कभी जनधन योजना की फुलझड़ी छोड़ दी कभी स्वछता अभियान की . अन्तराष्ट्रीय बाज़ार में तेल कितना सस्ता हो गया ! किसी को इस सस्तेपन का अहसास तक नहीं होने दिया और चुपके से कॉर्पोरेट और आयल सब्सिडी के नाम पर सारा पैसा अम्बानियों के साथ मिलकर कुरु कुरु स्वाहा ! अर्थव्यवस्था बदहाल और आम आदमी की पॉकेट फटेहाल . कैसे लोगों को विश्वास में रखा जाए , खासकर उस मध्यवर्ग को जिसने अपनी कठिनाइयों से मुक्ति की आशा में मोदीजी को हाथों हाथ लपका था .

 

लोग बिदक रहे , लोकप्रियता का ग्राफ तेजी से गिर रहा , सरकार की भद पिट रही . तो बस मुद्दे को ही बदल दो . न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी . देश खतरे में है , तिरंगा खतरा में है , विश्वविद्यालयों में आतंकवाद बढ़ रहा है , भारत का राष्ट्रवाद खतरे में है . अब राष्ट्रवाद के सामने रोटी और रोजगार का सवाल कौन उठाएगा भला ! भारतमाता के सामने राधिका माता ( रोहित की माँ ) को कौन भाव देगा ! किस राष्ट्रद्रोही में हिम्मत है जो पूछ ले की मोदी जी मुझे भूख लगी है , घर में राशन नहीं है , नौकरी नहीं है , खेत में पानी नहीं है ……सारे सवाल बंद . पर ऐसा है क्या ? बिलकुल नहीं . राष्ट्रवाद सभी भारतीयों की रगों में बहता है पर बीजेपी जिस राष्ट्रवाद का प्रचार कर रही वह राष्ट्रवाद नहीं बल्कि अंध राष्ट्रवाद है , एक राजनीतिक हथियार है और इसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब सारे हथियार चुक जाते हैं , जब लोग वर्तमान व्यवस्था से निराश हो चुके होते हैं . हिटलर ने भी यही किया था और परिणाम सबके सामने है . हिटलर भी यही प्रचार कर आया था की चुटकी बजाते ही सारी समस्याएं ख़त्म . समस्याएं तो जस की तस रहीं पर जर्मनी जरुर बर्बाद हो गया . अगर हिटलर नहीं होता तो शायद जर्मनी आज अमेरिका की जगह होता .

naval.sharmaलेखक जनता दल यू के प्रदेश प्रवक्ता हैं

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*