लालू के दो सेवकों के जेल जाने पर उठा राजनीतिक विवाद, भाजपा व जदयू ने कहा गरीबों से कराया गया अपराध

एक अखबार की इस खबर के बाद कि लालू प्रसाद के दो सेवक  आपस में फर्जी झगड़ा करने के बाद उनकी सेवा के लिए होटवार जेल पहुंच गये, भाजपा व जदयू ने तीखी प्रतिक्रिया दी है.

जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा है कि ‘ये सामंती सोच है, गरीबों के नेता होने का नाटक है, उक्त सेवक से जानबूझ कर लालू परिवार ने अपराध कराया है. जबकि बीजेपी प्रवक्ता नवल किशोर यादव  ने कहा है कि लालू प्रसाद शुरू  से ही ‘फेहरई’ करने में माहिर हैं, उन्होंने दो गरीबों से अपराध कराया है. नवल किशोर यादव ने कहा कि ये गरीबों के नेता हो ही नहीं सकते हैं. उन्होंने कहा कि लालू यादव सिर्फ अपने लिए बने हैं, वो अपना स्वार्थ देखते हैं, सिर्फ परिवार के लिए जीते हैं.

पढ़ें- क्या है अखबार का दावा- लालू के सेवक फर्जी केस में गये होटवार जेल

 

गौरतलब है कि एक हिंदी अकबार ने खबर दी है कि लालू के दो सेवकों ने आपसमें फर्जी झगड़ा किया और पुलिस में शिकायत दर्ज करायी. मदन और लक्ष्मण के जेल जाने के लिए एक फर्जी मारपीट का मामला गढ़ा गया। मदन ने पड़ोसी सुमित यादव को इसके लिए तैयार किया। उसने मदन लक्ष्मण पर मारपीट कर 10000 रुपए लूटने का आरोप लगाते हुए डोरंडा थाने में शिकायत की। डोरंडा थाना प्रभारी आबिद खान को शक हुआ और उन्होंने एेसे हल्के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजने से इंकार कर दिया। फिर तीनों लोअर बाजार थाने पहुंचे. इस मामले में उन्हें जेल भेज दिया गया. यो दोनों लालू प्रसाद के जेल जाने से दो घंटे पहले जेल चले गये. अखबार का दावा है कि इन दोनों में से एक लालू प्रसाद का रसोइया है जबकि दूसरा सेवक है.

अभी तक इस मामले लालू परिवार की तरफ से कोई बयान नहीं आया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*