लालू राबड़ी गये नतीश आये, पर इनकी कुर्सी जाती नहीं

बिहार में पिछले दो दशक में कई मुख्यमंत्री आये और गये पर इनका सत्ता सिंहासन जस तक तस कायम है. वैसी कौन सी बात है कि वीपीसी नाम से चर्चति इस अधिकारी को कोई आज तक डिगा नहीं सका? इस अधिकारी को ढूंढ़ निकाला है विनायक विजेता ने

कहते हैं कि पद जितना ऊंचा होता है वह उतना ही अस्थाई होता है. तभी तो उच्च पदों पर बैठे लोग हर क्षण अपनी कुर्सी की चिंता में लगे होते हैं. पर इस मामले में वीसीपी सिंह इतने लकी ठहरे कि पिछले दो दशक से कई सरकारें आईं और गईं पर सिंह की कुर्सी जस की तस कायम है.

सलाखों के अंदर भी है वीरचंद्र प्रसाद की बादशाहत

वीरचंद प्रसाद सिंह जेल की सलाखों में कैद दुर्दांत कैदियों से लेकर छोटे अधिकारियों तक में वीसीपी के नाम से चर्चित हैं. और 1992 से अब तक इसी महकमे में डटे हुए हैं.
बिहार सरकार के कारा विभाग में सबसे पहले उपनिदेशक, उद्योग और कारा के इन अधिकारी महोदय की हाल ही में पदोन्नति भी हो गई है पर तब भी इन्हें इसी महकमे का निदेशक कार्मिक बना दिया गया है.

लगातार दो दशकों से इसी महकमे में बने रहने का सीधा मतलब है कि इस विभाग में एक पत्ता भी इनके इशारे के बिना नहीं हिलता.

वीसीपी सिंह उपनिदेशक, उद्योग, कारा के जिस पद पर छह माह पूर्व तक थे वह पद ही विवादित है. इस मामले में 2002 में रामनरेश सिंह व अन्य ने हाइकोर्ट में 155 पन्ने की (8224/2002) एक याचिका भी दायर की थी. याचिका के आलोक में हाइकोर्ट ने वीसीपी और उनके पद के मामले में एजी से विशेष जांच का आदेश भी दिया. पर वीसीपी के प्रभाव यहां भी दिखा. यह जांच आज तक चल ही रही है.

वीसीपी सिंह 1992 से ही उपनिदेशक कारा उद्योग के उस पद पर कुछ माह पहले तक तैनात थे जिस पद का कोई वजूद ही ही नहीं था.
पूरे देश में ऐसा कोई उदाहरण शायद ही सामने आया हो जब कोई व्यक्ति एक ही विभाग और एक ही पद पर लगातार बीस वर्षों तक जमा रहे.

ध्यान देने की बात है कि कारा विभाग खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ही अधीन है.

पूर्व में बक्सर जेल में तैनात थे वीसीपी. 1992 में उप निदेशक, कारा उद्योग बनाया गया तब लालू प्रसाद राज्य के मुख्यमंत्री थे. तभी से वीसीपी सिंह की सत्ता के गलियारे में ऊपर से लेकर अंतिम पायदान तक पहुंच और पकड़ बनी हुई है.

1997 में जब राबड़ी देवी मुख्यमंत्री बनी तब भी वीसीपी की बादशाहत कायम रही जो नीतीश कुमार के शासन काल के सातवे वर्ष तक कायम है. 2005 में जब नीतीश राज्य के मुख्यमंत्री बनें तो ऐसे संकेत मिले थे कि वर्षों से एक ही पद पर कायम अधिकारियों पर तबादले की गाज गिरेगी. बड़ी संख्या में अधिकारियों के तबादले हुए भी. पर वीसीपी सिंह मामले में ऐसा नहीं हो सका. नीतीश कुमार ने नवंबर 2010 में दुबारा सत्ता की बागडोर संभली, कितने अधिकारी आए और गए पर विरचंद प्रसाद की कुर्सी जस की तस बनी है.

बिहार में किसी राजपत्रित अधिकारी को अधिकतम तीन वर्ष तक ही एक पद पर पदस्थापित रखने की परंपरा और सरकारी फरमान है पर इन सबसे अलग वीसीपी सिंह ने एक ही पद पर लगातार 21 वर्षों तक लगातार जमे रह कर देश में एक रिकार्ड ही बना डाला है.

अब देखने की बात है कि उनके इस कार्यकाल की अवधि और कितने वर्षों तक जारी रहती है.

विनायक विजेता पटना के एक वरीय पत्रकार है तथा वर्तमान में पटना से प्रकाशित दैनिक सन्मार्ग, प्रत्युष नवबिहार और हिन्दी मासिक समकालीन तापमान के लिए स्वतंत्र लेखन करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*