सलीम परवेज को उर्दू विरोधी बताने का JDU में चला प्रोपगंडा

सलीम परवेज को उर्दू विरोधी बताने का JDU में चला प्रोपगंडा

JDU अल्पसंख्यक सेल के द्वारा आज आयोजित होने वाली दावत ए इफ्तार के निमंत्रण पत्र पर चल रहा विवाद निराधार साबित हुआ. कुछ नेताओं ने आरोप लगाया था कि इफ्तार के लिए भेजे जाने वाले निमंत्रण पत्र को उर्दू में नहीं छापा गया है.

हालांकि पार्टी के उन नेताओं का यह आरोप निराधार साबित हुआ. खुद जदयू अल्पसंख्यक सेल के प्रदेश अध्यक्ष सलीम परवेज ने कहा कि दावत नामा हिंदी और उर्दू दोनों भाषाओ में छापा गया है.

BJP को बुरा लगे तो लगे, नीतीश ने इफ्तार में तेजस्वी को बुलाया

सलीम परवेज ने उन्हें उर्दू विरोधी बताये जाने पर जोदार खंडन किया और यहां तक कहा कि दावनामा हिंदी और उर्दू दोनों भाषणा में छपा है. कुछ लोग झूठ बोल रहे हैं. क्या मैं उन पर मानहानि का मुकदमा करूं.

गौरतलब है कि आज यानी 28 अप्रैल को जनता दल युनाइटेड के अल्पसंख्यक सेल की तरफ से दावत इफ्तार का आयोजन किया गया. यह आजोन हज भवन में है. इस इफ्तार पार्टी की खास बात यह है कि इसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी शामिल होंगे.

इस अवसर पर जदयू अल्पसंख्यक सेल की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जोरदार स्वागत की तैयारी की गयी है. उन्हें उर्दू और हिंदी में सिपासनामा भेंट किया जायेगा.

सिपासनामा के तैयारी की जिम्मेदारी आरिफ अंसारी को दी गयी है.

याद रहे कि सलीम परवेज के जनता दल यू के अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष पद संभालने के बाद यह पहली दावत ए इफ्तार है. पिछले साल जदयू अल्पसंख्यक मोर्चा के तत्कालीन अध्यक्ष तन्वीर अख्तर की कोरोना में मौत हो गयी थी. उसके बाद सलीम परवेज को यह जिम्मेादारी सौंपी गयी है.

सलीम परवेज इससे पहले राजद में शामलि हो गये थे. लेकिन पिछले दिनों उन्होंने फिर से जनता दल युनाइटेड की सदस्यता ग्रहण कर ली .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*