सुहैल हिंगोरा अपहरण मामले में तो नहीं हुई अशोक की गिरफ्तारी?

झारखंड जेल पुलिस के निलंबित सिपाही कुख्यात अशोक शर्मा को पटना पुलिस ने हजारीबाग के हीरालाल चौक स्थित अपार्टमेंट से गिरफ्तार कर लिया है। समझा जाता है कि इसकी गिरफ्तार गुजरात के अपहरण मामले में हुई है.

इसी फैक्ट्री से हुआ था सुहैल हिंगोरा का अपहरण

इसी फैक्ट्री से हुआ था सुहैल हिंगोरा का अपहरण

विनायक विजेता

अशोक के साथ उसके छोटे पुत्र चंदन को भी गिरफ्तार किया गया है। हालांकि पटना पुलिस या पटना के एसएसपी मनु महाराज अभी इस मामले में कुछ भी बताने से कतरा रहें हैं।

पर विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार अशोक और उसके पुत्र की गिरफ्तारी बीते 26 जनवरी की रात फुलवारीशरीफ थाना अंतर्गत छेदी टोला, पुलिस कॉलोनी स्थित डा.राधेश्याम शर्मा के घर हुई भीषण डकैती मामले में की गई है।

जबकि दूसरी तरफ कुछ सूत्रों का कहना है कि गुजरात के व्यवसायी पुत्र सोहैल हिंगोरा अपहरण मामले में उनकी गिरफ्तारी हुई है जिसमें 25 करोड़ की फिरौती की राशि वसूल की गई थी।

डा.राधेश्याम शर्मा मूलत: जहानाबाद जिला के घोषी थाना अंतर्गत ओकरी गांव के रहने वाले हैं और अशोक शर्मा भी इसी गांव का है। एक यह भी गुप्त चर्चा है कि अशोक कि गिरफ्तारी गुजरात के व्यवसायी हनीफ हिंगोरा के पुत्र सुहैल हिंगोरा के बहुचर्चित अपहरण कांड मामले में की गई है।

सूत्र बताते हैं कि इस अपहरण मामले में पुलिस हाजीपुर निवासी जिस चंदन सोनार की खोज कर रही है उस चंदन का आत्मीय संबंध अशोक शर्मा और उसके बेटे चंदन से है। अशोक शर्मा और चंदन सोनार की प्रगाढ़ता एक ही जेल में रहने के कारण हुई थी। यहां तक कि चंदन सोनार और उसका गिरोह हजारीबाग में अशोक शर्मा के ही उस फलैट में ठहरा करता है जिस फ्लैट को चंदन सोनार ने ही अपने रुपयों से खरीद अशोक शर्मा को उपहार स्वरुप दे दिया।

सूत्र बताते हैं कि इसके अलावा चंदन सोनार ने अशोक शर्मा को एक जाइलो कार भी उपहार स्वरुप दिया है। इसके अलावा उसने अशोक की बेटी की शादी में लाखों रुपए खर्च किए। सूत्र यह भी बताते हैं कि चंदन सोनार और अशोक शर्मा ने मिलकर हजारीबाग स्थित अपने अपार्टमेंट के पास ही अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले एक व्यक्ति की आठ कठ्ठे की बेशकिमती भूखंड पर भी कब्जा जमा रखा है।

सीसीए एक्ट के तहत कुछ समय पूर्व तक दुमका जेल में बंद और अपनी मां के श्राद्धकर्म के नाम पर कुछ माह पूर्व ही जेल से बाहर आए अशोक शर्मा पर बिहार के एक पूर्व मुख्यमंत्री के पोते प्रशांत सहाय की अपहरण के बाद हत्या सहित बिहार और झारखंड में हत्या और अपहरण सहित कई मामले दर्ज हैं।
अशोक शर्मा व उसके पुत्र की गिरफ्तारी डा.राधेश्याम शर्मा के घर हुई डकैती मामले में हुई या बहुचर्चित सुहैल हिंगोरा अपहरण मामले में इसकी पुष्टि अभी नहीं हो सकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*