सोशल मीडिया के मंच पर हो रही राजनीतिक मुद्दों की लड़ाई

मासिक पत्रिका ‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ और न्‍यूज एजेंसी बीवाइएन के तत्‍वावधन में आज गांधी संग्रहालय में सोशल मीडिया का बढ़ता दायरा और संभावनाओं के आयाम पर विचार गोष्‍ठी का आयोजन किया गया। इसको संबोधित करते हुए पत्रिका के संपादक वीरेंद्र यादव ने कहा कि पत्रकारिता के क्षेत्र में तकनीकी स्‍तर पर व्‍यापक बदलाव आया है। उन्‍होंने कहा कि सोशल मीडिया ने खबरों को धार दी है, गति दी है, लेकिन इसके साथ ही खबरों की विश्‍वसनीयता पर भी सवाल उठने लगे हैं। अफवाह को भी खबरों के रूप में प्रस्‍तुत करने की प्रवृत्ति देखी जा रही है। सोशल मीडिया के लिए यह बड़ी चुनौती है। श्री यादव ने कहा कि पत्रिका का सितंबर अंक इसी विषय पर केंद्रित है। इस मौके पर पत्रिका के सोशल मीडिया विशेषांक का लोकार्पण भी किया गया।   

‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ के सोशल मीडिया अंक का लोकार्पण

सोशल मीडिया का बढ़ता दायरा और संभावनाओं के आयाम पर विचार गोष्‍ठी आयोजित

 

कार्यक्रम में नौकरशाहीडॉटकॉम के संपादक इर्शादुल हक ने कहा कि राजनीतिक मुद्दों की लड़ाई भी सोशल मीडिया के मंच तेज हो गयी है। मुद्दों की पत्रकारिता में नौकरशाहीडॉटकॉम की भूमिका पर भी उन्‍होंने प्रकाश डाला। इंजी. अजय यादव ने कहा कि राजनीति के क्षेत्र में भी सोशल मीडिया का हस्‍तक्षेप बढ़ रहा है। वेद प्रकाश ने यूट्यूब के आर्थिक पक्ष पर प्रकाश डाला। सतीश यादव पिंटू ने कहा कि सोशल मीडिया के इस्‍तेमाल में सतर्कता बरतने की जरूरत है। इस मौके पर केपी यादव, चौधरी मायावती, अनामिका पासवान, बीएन विश्‍वकर्मा, लव कुमार यादव, अभिषेक गुप्‍ता, नवनीत यादव, सूरज यादव, रामेश्‍वर चौधरी, पकंज, आलोक, मनीष, प्रमोद, विपुल, संजय आदि ने भी अपने विचार व्‍यक्‍त किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*