हिन्दी साहित्य के महान और प्रतापी साहित्यकार थे आचार्य नलिन विलोचन शर्मा 

नलिन जी के साहित्यिक व्यक्तित्व और कृतित्व पर डा कल्याणी कुसुम सिंह की पुस्तक का हुआ लोकार्पण 

आयोजित हुआ कवि-सम्मेलन

पटना, मात्र पैंतालिस वर्ष की आयु में हिन्दी के सृजनात्मक साहित्य और साहित्यालोचन को हिमालयी गरिमा प्रदान करने वाले समालोचक,आचार्य नलिन विलोचन शर्मा हिन्दी भाषा और साहित्य के महान उन्नायक और प्रतापी समीक्षक थे। उन्होंने गद्य और पद्य की प्रायः सभी विधाओं में विपुल सृजन के साथ हीं समालोचना के मानदंड स्थापित किए। परंपराओं की महान प्रवृति की रक्षा करते हुए भीउनमें गुणात्मक परिवर्तन करने की प्रयोगधर्मिता भी उन्मे अपने उत्कर्ष पर थी। विद्वता के वे अपराजेय कीर्तिध्वज थे।

यह बातें बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन मेंविदुषी लेखिका डा कल्याणी कुसुम सिंह द्वारानलिन जी पर लिखित शोधपुस्तकप्रज्ञ पुरुष आचार्य नलिन विलोचन शर्मा‘ के लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता करते हुए सम्मेलन अध्यक्ष डा अनिल सुलभ ने कही। डा सुलभ ने कहा किलोकार्पित पुस्तक में सुबुद्ध लेखिका ने अपने सामर्थ्यभर नलिन जी के साहित्यिक व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला हैजिसमें नलिन जी के प्रयोगवादी काव्यशिल्प,कहानियाँ और उनका आलोचनाकौशल सम्मिलित है। बिहार राष्ट्र भाषा परिषद द्वारा प्रकाशित यह पुस्तक साहित्य के विद्यार्थियों और सुधी पाठकों के लिए अत्यंत उपयोगी है।

इसके पूर्व पुस्तक का लोकार्पण करते हुएपटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डा एस एन पी सिन्हा ने कहा कि,विदुषी लेखिका ने नलिन जी के संबंध में कई अनछुए पहलुओं को श्रम पूर्वक प्रकाश में लाया है। इस पुस्तक से नलिन जी की विराट समालोचनप्रतिभा का परिचय मिलता है।

समारोह के मुख्य अतिथि और वरिष्ठ लेखक जियालाल आर्य ने कहा कि,नलिन जी बहुमुखी प्रतिभा के साहित्यकार थे। उनकी विद्वता और मेधा की तुलना करना संभव नही था। वे महान साहित्यकार,महान संपादक और महान शिक्षक भी थे।

सम्मेलन के उपाध्यक्ष नृपेंद्र नाथ गुप्तडा शंकर प्रसादडा मधु वर्माडा भूपेन्द्र कलसीडा नागेश्वर प्रसाद यादवअंबरीष कांतश्रीकांत सत्यदर्शीडा मेहता नगेंद्र सिंह तथा डा विनय कुमार विष्णुपुरी ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

इस अवसर पर आयोजित कविसम्मेलन का आरम्भ कवयित्री शकुंतला मिश्र की वाणीवंदना से हुआ। वरिष्ठ कवि घनश्याम ने अपनी ग़ज़ल पढ़ते हुए कहा कि, ” अपाहिज आस्थाएँ दौड़ती तक़दीर के पीछेमगर तक़दीर चलती है सदा तदवीर के पीछे। आरपी घायल का कहना था कि वफ़ा की राह में रोड़ा बिछाना काम है जिनकावफ़ा की जीत भी उनको वफ़ा की मात लगता हैजिसे मैं देख लेता हूँ बिना देखे भी हर लम्हा/उसी की याद में खोयी हुई हर रात लगती है। आचार्य विजय गुंजन ने गीत को स्वर दिया कि, “ आ क्षितिज पर उगा चाँद भी हँस लगा छीटने चाँदनीऔर मन दमकने लगी सैकड़ों आस की दामिनी

वरिष्ठ कवयित्री डा सीमा यादव,वीणाश्री हेंब्रम,मधुरेश नारायणदेव राज शर्माकुमारी स्मृतिडा मनोज गोवर्द्धनपुरीनेहा नपुरआचार्य आनंद किशोर शास्त्रीनसीम अख़्तरशुभ चंद्र सिन्हासरोज तिवारी,डा शालिनी पाण्डेय,पुष्पा जमुआरजय प्रकाश पुजारीराधे श्याम मिश्रनूतन सिन्हाउमा शंकर सिंहसुनील कुमार,प्रतिभा प्रासर,अर्जुन प्रसाद सिंह,राज किशोर झा तथा डा नरेश प्रसाद ने भी अपनी रचनाओं का पाठ किया। 

अतिथियों का स्वागत सम्मेलन के प्रधान मंत्री डा शिववंश पाण्डेय ने तथा धन्यवाद ज्ञापन कृष्णरंजन सिंह ने किया। मंच का संचालन योगेन्द्र प्रसाद मिश्र ने किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*