हेल्थ इंस्टिच्युट के आंख जांच शिविर में शामिल 400 लोगों में 147 को मोतियाबिंद

रविवार को पटना के राजकीय प्राथमिक विद्यालय, पकड़ी में, इंडियन इंस्टिच्युट औफ़ हेल्थ एजुकेशन ऐंड रिसर्च, बेउर द्वारा आयोजित ‘निःशुल्क नेत्र जांच शिविर’ का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव ने किया.IMG_20160501_151130_BURST2

 

इस अवसर पर राम कृपाल यादव ने कहा कि ‘आंखें हैं तो संसार है। इसके बिना जीवन कितना दुष्कर है यह किसी नेत्र-हीन को देखकर अनुभव किया जा सकता है। जिन्हें ईश्वर ने दोनों आंखे दी है, वे बड़े भाग्यशाली हैं। यह ईश्वर का दिया हुआ सबसे अनमोल वरदान है। किंतु उन्हें भी इसका मूल्य समझना चाहिए। आंखें खराब न हो, इस हेतु स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति को अपनी आंखों की ही नही बल्कि अपने स्वास्थ्य की नियमित जांच करानी चाहिए.

हेल्थ इंस्टिच्युट के सभी चिकित्सकों को उनके इस सेवा कार्य के लिये बधाई देते हुए आग्रह किया कि शीघ्र हीं एक बड़ा संपूर्ण स्वास्थ्य शिविर लगायें। उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत से अधिक बीमारियां अशुद्ध पानी पीने तथा अस्वछता के कारण होती हैं। प्रत्येक व्यक्ति को अपना परिवेश और तन-मन साफ़ रखना चाहिए। हाथ धोकर खाने की आदत डालनी चाहिए। सभी घर में शौचालय बनाया जाना चाहिए। भारत सरकार की योजनाओं का लाभ उठाना चाहिए।

उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए संस्थान के निदेशक-प्रमुख तथा बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डा अनिल सुलभ ने कहा कि, स्वास्थ्य के प्रति सजग रह कर अनेक बीमारियोंन्से बचा जा सकता है। स्वास्थ्य की सुविधाएं प्राप्त हों तो प्र्त्येक व्यक्ति को अपनी जांच करानी चाहिए। बीमार होने के बाद चिकित्सक के पास पहुँचना बहुत महँगा सिद्ध होता है। उन्होंने बताया कि हेल्थ इंस्टिच्युट द्वारा स्वास्थ्य-संबंधी सभी प्रकार की जांच की सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती हैं, जिसका लाभ हर एक व्यक्ति को उठाना चाहिए।

शिविर में स्लीट-लैंप, औटो रेफ़्रेक्टो मीटर, लेंसो मीटर, औफ़्थालमोस्कोप, रेटिनो स्कोप तथा ट्रायल बौक्स सहित सभी आधुनिक संयत्रों की मदद से चार सौ से अधिक स्त्री-पुरुषों की आंखों की जांच की गयी, इनमें से 147 व्यक्तियों को मोतियाबिंद के औपरेशन के लिए चिन्हित किया गया, जिनका बेउर स्थित संस्थान के सुसज्जित शल्य-चिकित्सा-कक्ष में औपरेशन किया जायेगा तथा चश्में उपलब्ध कराये जाएंगे।

 

शिविर में डा पी कुमार, डा वेंकटेश्वर, डा प्रभात कुमार भारती, डा अज़का बिन्ते अज़ीम, विजय कुमार, राजीव रंजन, राजेश कुमार सुशान्त, रवि कुमार शर्मा, मो तल्हा, प्रेम यादव, अगस्त्य भारद्वाज, हेमन्त यादव, सागर कुमार सिंह तथा निरंजन यादव ने भी अपनी सेवाएं दी, जिन्हें केन्द्रीय मंत्री द्वारा प्रशस्ति-पत्र तथा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर संस्थान के संपदा अधिकारी आभास कुमार, डा राम नारायण राय, विनोद कुमार सिंह, जितेन्द्र कुमार, अतुल कुमार तथा उपेन्द्र प्रसाद सहित अनेक सामाजिक कार्यकर्ता शिविर की सफ़लता हेतु सक्रिय रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*